5 ways to build your website SEO in Hindi

अप्रेल 2018

ऑनलाइन कारोबार की सफलता के लिए एक अच्छे रेफ्रेंस्ड साइट का होना जरूरी है. आजकल साइट रेफ्रेंसिंग आमतौर पर दो तरीकों से हासिल की जाती है: पहला Paid Campaign जिसमें Sponsored Links का इस्तेमाल किया जाता है, और दूसरा है फ्री तरीका मतलब वेबसाइट के Search engine optimization (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) यानी SEO की मदद लेना, या सर्च इंजिन रिजल्ट में वेबसाइट के रिप्लेसमेंट को अधिकतम करने के लिए कीवर्ड्स और वाक्यांशों को शामिल करने की प्रक्रिया.

यहां हम SEO पेशेवरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सर्वश्रेष्ठ विश्लेषण टूल्स में से 5 के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे. किसी वेबसाइट की रैकिंग का विश्लेषण करने तथा रैंकिग को अधिकतम करने के लिए इन टूल्स का इस्तेमाल किया जा सकता है.


सर्च इंजिन ऑप्टीमाइजेशन क्या है?

Search engine optimization, या SEO कुछ ऐसे तकनीकों का जमावड़ा है जिसका प्रयोग वेबसाइट की विजिबलिटी और सर्च इंजिन में इसकी रैंकिंग को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है. (याद रखें कि सर्च इंजिन साइट की आपूर्ति और यूजर की मांग के बीच का एक इंटरफेस है. URL, Title, Keyword, Content quality, Images, और Links ये सभी वेबसाइट के सर्च इंजिन ऑप्टीमाइजेशन में भाग लेते हैं.

यह क्यों महत्वपूर्ण है? क्योंकि 4 में से प्रत्येक 3 इंटरनेट यूजर किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस को खोजने के लिए सर्च इंजिन का प्रयोग करते हैं. इन यूजर्स में से करीब 80 फीसदी लोग रिजल्ट के पहले पेज पर अपना सर्च शुरू करते हैं और यहीं सर्च खत्म भी कर देते हैं. हाल के सालों में, गूगल ने इंटरनेट की मदद से चलने वाले कारोबार का खेल पूरी तरह बदल दिया है. 30 अरब से अधिक इनडेक्सड पेजों के साथ यह विशालकाय सर्च इंजिन SEO मार्केटिंग रणनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है.

SEO विश्लेषण का महत्व

यदि कोई व्यवसाय अपनी ऑनलाइन उपस्थिति को पुख्ता करना चाहता है तो इसके लिए उसे अपनी SEO प्रैक्टिस में सुधार लाना होगा. SEO विश्लेषण की मदद से व्यवसाय को यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि उनके सभी साइट अपने लक्षित दर्शकों के हिसाब से हैं, कि इससे उनके साइट कन्टेंट में सर्च इंजन रिक्वेसट को कैसे लागू किया जाए, कि उन कीवर्ड का विश्लेषण हो जिसका इस्तेमाल इंटरनेट यूजर उनकी साइट तक पहुंचने में करते हैं और ये चेक करने में मदद मिलेगी कि कौन सा पेज सबसे अधिक देखा गया और कौन सा पेज सबसे कम देखा गया.


इन विश्लेषणों के बाद आने वाले नतीजों से व्यवसायियों को एक व्यापक रणनीति तैयार करने में मदद मिलेगी. इससे वे अपनी साइट के कंटेन्ट को ऑप्टिमाइज करने में सक्षम हो सकेंगे. और इस तरह व्यवसायी अपने दर्शकों की संख्या और संभावनाओं, दोनों में इजाफा कर सकेंगे.

SEO का सबसे बड़ा फायदा ये है कि यह पूरी तरह से फ्री है, और इसके सभी टूल्स उपलब्ध हैं. बेहतर विजिबलिटी, बढ़ा हुआ ट्रैफिक, बेहतर होता कनवर्जन रेट. इसमें वो सब कुछ है जो कारोबार के लिए अच्छा है!

SEO टूल्स का प्रयोग कैसे करें

SEO विश्लेषण टूल्स की मदद से साइट के SEO की संभावित कमियों का पता लगाया जा सकता है. मानदंड के आधार पर, रिजल्ट के आधार पर कई SEO रणनीतियों को लागू किया जा सकता है. इन रणनीतियों में शामिल हैं, , साइट की गतिविधियों से संबंधित सामान्य शब्द या कीवर्ड्स को शामिल करना, हेडलाइन और शॉर्ट का प्रयोग, आवश्यक कीवर्ड के साथ असरदार वाक्यांश, साइट कंटेन्ट की स्पष्ट प्रस्तुति, संभवतः साइट का नाम फिर से रखना, साथ ही साथ साइट के भातरी कंटेन्ट और दूसरे प्राधिकारी साइटों में लिंक्स का प्रयोग आदि,

5 फ्री ऑनलाइन SEO टूल्स

SEO पेशेवर आमतौर पर जिन टूल्स का प्रयोग करते हैं उनमें से पांच अहम टूल्स के बारे में हम यहां जानकारी दे रहे हैं.

गूगल एनालिटिक्स

गूगल एनालिटिक्स साइट एडमिनिस्ट्रेटर्स की वेबसाइट या पेज के ट्रैफिक सोर्स (डायरेक्ट, रेफ्ररल, ऑरगैनिक, सोशल, या पेड सर्च) का पता लगाने में मदद करता है. इसकी मदद से किसी भी कारोबार को ट्रैफिक फ्लो देखकर अपने साइट का कंटेन्ट तैयार करने में मदद मिलेगी.

गूगल ट्रेंड्स

जैसा कि नाम से ही जाहिर है, गूगल ट्रेंड्स सर्च ट्रेंड या कीवर्ड की लोकप्रियता का विश्लेषण करती है और एक खास समय में उनके विकास पर नजर रखती है. इन ऑनलाइन टूल की मदद से कारोबारी अपनी साइट पर कुछ कीवर्ड और वाक्यांशों को शामिल कर सकते हैं ताकि उनके पेज सर्च रिजल्ट में अपनी रैंकिंग बढ़ा सकें.

मैजेस्टिक

मैजेस्टिक एक बड़ा डेटाबेस है जो डोमेन नेम का विश्लेषण करती है और फिर साइट के भीतर या बाहर के कई लिंक्स का पता लगाने के लिए बैकलिंक्स का प्रयोग करता है. साइट की पूरी गुणवत्ता को हासिल करने के लिए साइटेशन स्कोर, विश्वसनीयता और प्राधिकार संकेतक का प्रयोग किया जाता है.

कीवर्डटूल

कीवर्डटूल ऐसा विश्लेषण टूल है जो वैसे कीवर्ड्स की सूची तैयार करता है जिनका किसी खास विषय से काफी नजदीक का संबंध होता है. उदाहरण के लिए, यदि किसी कारोबारी को 'वैकेशन' टाइप करना है तो कीवर्डटूल एक ऐसी सूची तैयार करेगा जिसमें "कार रेंटल," "वेकेशन रेंटल," या "होटल" जैसे शब्द शामिल हो सकते हैं. इसकी मदद से व्यवसायी यूजर की रुचि के अनुसार अपने साइट के कंटेन्ट को समृद्ध और समायोजित कर सकते हैं.

हम सलाह देना चाहेंगे कि आप 'सही' कीवर्ड्स को पाने के अपने मौके को अधिकतम करने के लिए Ubersuggest.io का इस्तेमाल करें ताकि कीवर्ड्सटूल की ओर से क्रॉस रेफ्रेन्स रिजल्ट आए.

Moz

Moz ऐसे कई ऑनलाइन टूल्स उपलब्ध कराता है जो मार्केटर्स को अपनी भीतर की मार्केटिंग का विश्लेषण करने की अनुमति देता है. ऐसे कई तरह के टूल्स होते हैं. इनमें एक है Term Extractor, जो किसी खास शब्द या वाक्यांश का महत्व बताता है, साथ ही साथ जहां वे विभिन्न HTML घटकों में शामिल किए जाते हैं. साइट के पास एक ऐसा टूल भी होता है जो साइट सैम्पलिंग के आधार पर पेज के प्रासंगिकता को निर्धारित करता है.

Photo: © Ozerina Anna - Shutterstock.com
ओरिजिनल आर्टिकल ChristinaCCM ने पब्लिश किया. Swarnkanta ने अनुवाद किया. ताजा अपडेट: 3 जनवरी, 2018 - 02:42 अपराह्न पर RanuP ने किया.
CCM (https://in.ccm.net/) पर उपलब्ध यह डॉक्युमेंट "How to build your website SEO in Hindi" क्रिएटिव कॉमन लाइसेंस के तहत उपलब्ध कराया गया है. जैसा कि इस नोट में साफ जाहिर है, आप इस पन्ने को लाइसेंस के तहत दी गई शर्तों के मुताबिक संशोधित और कॉपी कर सकते हैं.
फेसबुक के माय फर्स्ट वीडियो स्पैम से कैसे बचें
इंस्टाग्राम प्रोफाइल बैज कैसे तैयार करें