अपने केबल की पहचान कैसे करें

दिसम्बर 2016

यदि आपने कभी नया टीवी या ऑ़डियो सिस्टम को सेट करने की कोशिश की है तो आप जानते होंगे कि अलग अलग रंग के तार या केबल को पहचानना कितना मुश्किल होता है. दुर्भाग्य से अब जब लगभग सारी तकनीक वायरलेस हो रही है, आज भी केबल यानी तार जरूरी हैं. बहुत बुनियादी स्तर पर देखें तो तार या केबल ऑडियो और वीडियो संकेतों को आगे बढ़ाता है. वे जुड़ी हुई डिवाइस में से किसी से भी आगे भेजी गई जानकारियों को न तो बदलते हैं और न ही प्रोसेस करते हैं. हां. वे दो पार्टी के बीच एक दूत की तरह काम करते हैं.

इस लेख में हम आपको आपके वीडियो केबल में से कई तरह के केबल में भेद करना सिखाएंगे. फिर आपको कंपनियों की ओर से कलर-कोडिंग सिस्टम के बारे में भी बताएंगे जो सही केबल की पहचान को थोड़ा आसान बनाता है. I

केबल की पहचान कैसे करें

ऑडियो केबल

जब आवाज की बात आती है खास ऑडियो केबल दो तरह के होते हैं: analog RCA और speaker wire.

Analog RCA केबल बाजार में पाए जाने वाले संभवतः सबसे आम ऑडियो केबल होते हैं. अक्सर ये लाल और सफेद या लाल और काले रंग के जोड़े में होते हैं. आमतौर पर इनका इस्तेमाल मीडिया प्लेयर जैसे कि डीवीडी या BluRay प्लेयर को टीवी से जोड़ने के लिए होता है. इन्हें स्टीरियो से स्पीकर को भी जोड़ा जाता है. सभी RCA केबल जोड़े या पेयर में आते हैं. ये डिवाइसों के बीच दोतरफा कम्यूनिकेशन का काम करते हैं: लाल केबल डिवाइस के दाहिने तरफ के साउंड को ट्रांसमिट करता है और सफेद या काला केबल बायी ओर के साउंड को ट्रांसमिट करता है.

Speaker wires कॉपर से बने होते हैं और मोटाई और लंबाई के अनुसार गेमुट को रन करते हैं. ये तार लाउडस्पीकर और ऑडियो एम्पलीफायरों के बीच कनेक्शन बनाती है.

वीडियो केबल

तीन तरह के वीडियो केबल होते हैं: कम्पोजिट, कम्पोनेन्ट वीडियो और DVI (डिजिटल वीडियो इंटरफेस).


पुराना केबल होने के बावजूद, कम्पोजिट केबल आज भी बाजार में सबसे आम और लोकप्रिय वीडियो ओनली केबल हैं. पीले कनेक्टर वाले ये कम्पोजिट केबल अक्सर एनालॉग RCA केबल के साथ बंधे हुए पाए जाते हैं. ये केबल डिस्क से आपके स्क्रीन के बीच रंग और ब्राइटनेस को ट्रांसमिट करने की सहूलियत देते हैं:

कम्पोनेन्ट वीडियो केबल बेहद कोमल होते हैं और तीन रंगों- लाल, हरा और नीला, से बने होते हैं. इन केबल को अक्सर उच्च तकनीक वाले सिस्टम जैसे की BluRay और HDTV से जोड़ा जाता है. क्योंकि इनमें शार्पर इमेज और गहरे रंग को डिस्पले करने की क्षमता होती है.

DVI केबल की खासियत HDTVs और दूसरे हाई-डेफिनेशन सिस्टम हैं. ये 18-पिन कनेक्टर को अक्सर हम गलती से कंप्यूटर केबल समझ लेते हैं. इनका इस्तेमाल वीडियो सोर्स जैसे कि डीवीडी प्लेयर को मॉनीटर जैसे डिवाइस में डिस्पेल करने में किया जाता है.

यह भी पढ़ें :
CCM (in.ccm.net) पर उपलब्ध यह डॉक्युमेंट«  अपने केबल की पहचान कैसे करें  » क्रिएटिव कॉमन लाइसेंस के तहत उपलब्ध कराया गया है. जैसा कि इस नोट में साफ जाहिर है, आप इस पन्ने को लाइसेंस के तहत दी गई शर्तों के मुताबिक संशोधित और कॉपी कर सकते हैं.