अपनी ब्राउजिंग हिस्ट्री कैसे छिपाएं

दिसम्बर 2016


क्या आप इंटरनेट कुछ इस तरह से ब्राउज करना चाहते हैं कि किसी को इसका पता न चले. तो हम बताते हैं कि ऐसा कैसे हो सकता है. इसके लिए आपको कुछ निर्देशों का पालन करना होगा.

फायरफॉक्स

जब प्राइवेट ब्राउजिंग का प्रयोग किया जाता है, तो फायरफॉक्स किसी ब्राउजिंग हिस्ट्री, सर्च, डाउनलोड, वेब फॉर्म, कूकीज या टेम्पोररी इंटरनेट फाइलों को नहीं रखेगा. हालांकि जिन फाइलों को डाउनलोड किया गया है या जिन्हें बुकमार्क किया गया है वे संरक्षित कर लिए जाएंगे.

ध्यान रखें: हालांकि ये कंप्यूटर आपके ब्राउजिंग हिस्ट्री का कोई रिकॉर्ड नहीं रखता, लेकिन जिन पेजों पर आप गए हैं, उनका पता आपके ISP या आपके बॉस जरूर लगा सकते हैं.

जरूरी है कि आप पहले फायरफॉक्स लॉन्च करें और फिर Tools में जाएं और फिर छिपे हुए Window को स्टार्ट करें.

इंटरनेट एक्सप्लोरर

इंटरनेट एक्सप्लोरर 8 को लॉन्च करें और फिर Tools और इसके बाद InPrivate ब्राउजिंग में जाएं.


InPrivate ब्राउजिंग की मदद से आप वेब को इस तरीके से वेब कर सकते हैं ताकि इंटरनेट एक्सप्लोरर में उसका कोई निशान नहीं रह जाए. ये कदम तब जरूरी हो जाता है और ऐसा तब करना चाहिए जब एक ही पीसी के कई यूजर्स हों. ताकि आपकी निजता या गोपनीयता सुनिश्चित हो सके.

आप या तो न्यू पेज टैब या CTRL + ALT + P बटन को एक साथ दबाकर आप InPrivate Browsing को एनेबल कर सकते हैं.

जब आप InPrivate Browsing को सलेक्ट करते हैं तो इंटरनेट एक्सप्लोरर एक नया विंडो ओपन करता है. InPrivate Browsing उतनी ही देर तक सक्रिय रहता है जितनी देर तक ये विंडो ओपन रहता है. आप इस विंडो में जितनी संख्या में चाहें उतने टैब खोल सकते हैं. वे सभी InPrivate browsing द्वारा संरक्षित हैं. हालांकि यदि आप IE का प्रयोग करते हुए कोई दूसरा विंडो खोलते हैं तो वह InPrivate browsing द्वारा संरक्षित नहीं होगा. आपने InPrivate Browsing सेशन को खत्म करने के लिए ब्राउजर विंडो को बंद कर दें.

जब आप InPrivate Browsing की मदद से सर्फिंग करते हैं तो इंटरनेट एक्सप्लोरर सभी सूचनाओं जैसे कि कूकीज को सेव कर लेता है और जिस वेब पेज पर आप विजिट कर रहे हैं उसके लिए टेम्पोररी इंटरनेट फाइलें सही ढंग से काम करना जारी रखती हैं. हालांकि, आपके InPrivate Browsing सेशन के अाखिर में सारी सूचनाएं या जानकारियां डिलीट हो जाती हैं.

सूचना: वे InPrivate browsing से कैसे प्रभावित होते हैं?

कूकीज: ये मेमोरी में जमा होते हैं, ताकि पेज सही तरीके से काम करें, लेकिन जैसे ही आप अपना ब्राउजर बंद करते हैं कूकीज डिलीट हो जाते हैं.

टेम्पोररी इंटरनेट फाइल्स: ये डिस्क आईएसओ पर संग्रहित किए होते हैं ताकि पेज सही तरीके से काम करें, लेकिन जैसे ही आप ब्राउजर को क्लोज करते हैं वे डिलीट हो जाते हैं.

वेब पेज की हिस्ट्री: ये जानकारियां संग्रहित नहीं की जाती हैं.

पासवर्ड और फॉर्म डेटा: ये सूचनाएं संग्रहित नहीं होतीं.

कैचे Phishing: टेम्पोररी इन्फॉरमेशन को एन्क्रिप्ट किया जाता है और संग्रहित भी किया जाता है ताकि पेज ठीक से काम करें.

सर्च के लिए ऐड्रेस बार और AutoComplete: ये सूचनाएं संग्रहित नहीं की जातीं.

ब्लॉक करने के बाद ऑटोमेटिक रिकवरी: जब टैब किसी एक सेशन में फंस जाता है तो ब्लॉकिंग के बाद ऑटोमेटिक रिकवरी की मदद से रेस्टोरेशन किया जाता है. हालांकि यदि विंडो ब्लॉक नहीं हुआ तो डेटा हटा लिया जाता है और उसे विंडो रीस्टोर नहीं कर सकता.

डॉक्यूमेंट ऑब्जेकट मॉडल का स्टोरेज: डॉक्यूमेंट ऑब्जेक्ट मॉडल एक तरह के "सुपर कूकीज" होते हैं जिनका इस्तेमाल वेब डेवेलपर्स सूचनाएं हासिल करने के लिए करते हैं. InPrivate browsing के दौरान इन्हें सामान्य कूकीज की तरह इस्तेमाल किया जाता है.

गूगल क्रोम

गूगल क्रोम ओपन करें और फिर सबसे ऊपर दाहिनी ओर छोटे से की आइकन और फिर New incognito window को क्लिक करें. (CTRL +Shift +N).

सफारी

सफारी लॉन्च करें और फिर सफारी टैब और प्राइवेट ब्राउजिंग में जाएं.

ओपरा

ओपरा रन करें और टैब पर राइट क्लिक करते हुए न्यू टैब प्राइवेट को चुनें.

कुछ उपयोगी सॉफ्टवेयर

आप कंप्यूटर से अपनी ब्राउजिंग हिस्ट्री को हटाने के लिए इन कार्यक्रमों को भी पूरक के तौर पर समय समय पर इस्तेमाल कर सकते हैं:


Ccleaner

Glary Utilities

Wise registry cleaner

Free History Eraser

Free Internet Eraser

यह भी पढ़ें :
CCM (in.ccm.net) पर उपलब्ध यह डॉक्युमेंट«  अपनी ब्राउजिंग हिस्ट्री कैसे छिपाएं  » क्रिएटिव कॉमन लाइसेंस के तहत उपलब्ध कराया गया है. जैसा कि इस नोट में साफ जाहिर है, आप इस पन्ने को लाइसेंस के तहत दी गई शर्तों के मुताबिक संशोधित और कॉपी कर सकते हैं.