अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ क्या एप्पल जाएगी अदालत

रत्नेंद्र अशोक - 1 फ़रवरी, 2017 - अपराह्न 05:42 IST बजे
अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ क्या एप्पल जाएगी अदालत
दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनियों में से एक एप्पल अपने ही देश के राष्ट्रपति के खिलाफ अदालत में जाने को तयारी कर रही है.

(CCM) — अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के कुछ विशेष देशों से आए अप्रवासियों को देश से निकालने के फरमान के बाद एप्पल के सैकड़ों कर्मचारी प्रभावित हुए हैं. इसी से परेशान अमेरिकी कंपनी एप्पल अब राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ कानून के दरवाजे खटखटा सकती है.


एक अमेरिकी अखबार के अनुसार एप्पल की सीईओ टीम कुक ने दुनिया के 7 देशों के अप्रवासियों को देश से बहार निकालने के विशेष निर्देश की जमकर निंदा की है. कुक ने कहा, "अमेरिका दुनिया के किसी अन्य देश से इसीलिए मजबूत ज्यादा है क्योंकि हम बाहर से आए हुए लोगों की इज्जत करते हैं और उनको काम करने का अच्छा माहौल देते हैं." कुक के अनुसार इस निर्णय के बारे में एक बार फिर से सोचना चाहिए.

कुक ने यह भी साफ किया की वो राष्ट्रपति के एक्सीक्यूजिटिव आर्डर के विरोध में क़ानूनी मदद लेने की सोच रहे हैं. हालांकि एप्पल से पहले ऑनलाइन शॉपिंग साइट चलाने वाली अमेजन भी यह काम कर चुकी है.

पिछले सप्ताह डोनल्ड ट्रंप ने एक एक्सीक्यूजिटिव ऑर्डर पर अपने साइन करके अमेरिका में रहने वाले कई मुस्लिम देशों के अप्रवासियों को तुरंत वापस लौटने का फरमान सुना दिया है. इनमें मुस्लिम बाहुल्य जनसंख्या वाले सीरिया, सूडान समेत सात देश शामिल हैं.

वैसे ट्रंप ने यह निर्णय के बारे में उसी समय बता दिया था जब वो चुनाव लड़ रहे थे. शपथ लेने के बाद उन्होंने पहला बड़ा निर्णय लेकर पूरी दुनिया में उथल-पुथल मचा दी है. हालांकि सिलिकन वैली की सभी दिग्गज टेक कंपनियों ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है. इसमें फेसबुक, गूगल, अमेजन भी शामिल हैं.

गूगल के अनुसार इस निर्णय की वजह से उनके 187 कर्मचारियों की अमेरिका में रहना मुश्किल हो सकता है. वैसे गूगल के सीईओ और को-फाउंडर दोनों ही अप्रवासी हैं.

Photo: © JStone - Shutterstock.com
आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.