TikTok 'भारत की सुरक्षा पर खतरा': शशि थरूर

स्वर्णकांता - 2 जुलाई, 2019 - पूर्वाह्न 11:21 IST बजे
TikTok 'भारत की सुरक्षा पर खतरा': शशि थरूर
शशि थरूर ने TikTok को भारत के लिए खतरनाक बताया है.

(CCM) — कांग्रेस नेता शशि थरूर ने चर्चित चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप TikTok पर भारतीय यूजर्स का डेटा चीन भेजने का आरोप लगाया है. उन्होंने ऐप को भारत की 'राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा' बताया.

लोकसभा में शून्यकाल के दौरान भारत के नेता शशि थरूर ने ByteDance के TikTok पर गैरकानूनी ढंग से भारतीय यूजर्स का डेटा चीन को भेजने का आरोप लगाया.

इस मामले में लोकसभा में अपनी बात रखते थरूर हुए कहा कि भारत के पास अपनी निजी जानकारियों की सुरक्षा के लिए व्यापक स्तर पर कोई ढांचा उपलब्ध नहीं है. उन्होंने सरकार से मांग की है कि वो डेटा चोरी और निगरानी के लिए तुरंत ठोस कदम उठाए.

उनके मुताबिक स्मार्टफोन, ऐप्स, सोशल मीडिया और इंटरनेट के इस युग में भारत में भी मनमर्जी तरीके से डेटा जेनरेट हो रहा है. थरूर ने आगाह किया कि इसका इस्तेमाल निहित स्वार्थ के तहत प्रोफाइलिंग, राजनीतिक नियंत्रण और लाभ कमाने के लिए किया जा सकता है.

थरूर ने इसे "देश की सुरक्षा पर खतरा" बताते हुए कहा कि वो सरकार से अपील करते हैं कि वो देश के लोकतंत्र और लोगों की निजता के मौलिक अधिकार की रक्षा के लिए जल्द से जल्द एक व्यापक कानूनी ढांचा पेश करे.

शशि थरूर ने बताया, "हाल ही में, अमरीका के फेडरल ट्रेड कमीशन ने टिकटॉक पर बच्चों से गलत ढंग से जानकारियां हासिल करने के लिए 5.7 मिलियन यानी 40.39 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है." उन्होंने ये भी कहा कि चीन की सरकार चाइना टेलीकॉम से सारी जानकारियां हासिल करती है. बता दें कि टिकटॉक यूजर्स का डेटा चाइना टेलीकॉम को ट्रांसफर करता है.

TikTok पर मार्च, 2019 में आरोप लगे थे कि उसने 13 साल से कम उम्र वाले बच्चों से गैरकानूनी तरीके से उनका नाम, ईमेल एड्रेस, फोटो और लोकेशन की जानकारी हासिल की है.

TikTok चीनी कंपनी 'ByteDance' का ऐप है. इस पर कोई भी 15 सेकंड का वीडियो बनाकर शेयर कर सकता है. इसे कंपनी ने साल 2016 में पेस किया था. दुनिया भर में इसे हाथों हाथ लिया गया. इसकी लोकप्रियता का ये आलम रहा कि साल 2018 में इसे अमेरिका में सबसे अधिक बार डाउनलोड किया गया.

भारत में भी इस एप का इस्तेमाल बढ़ा है. हाल के दिनों में बच्चे भी इसपर वीडियो बनाकर शेयर करते दिखाई दे रहे हैं. एक आंकड़े के मुताबिक टिकटॉक के दुनिया भर में 100 करोड़ यूजर्स हैं जिनमें से तकरीबन 40 फीसदी यूजर्स भारतीय हैं.

पिछले दिनों इंफॉर्मेशन सिक्योरिटी फर्म Arrka Consulting ने इस मामले को लेकर एक रिसर्च किया था. रिसर्च में ये बात सामने आयी थी कि चीन के डिजिटल ऐप भारतीय यूजर्स के निजी डेटा का एक्सेस मांगते हैं. रिपोर्ट में आरोप लगाया गया कि फिर इन्हें विदेशी एजेंसियों को भेजा जाता है. इनमें Helo, Shareit, TikTok, UC Browser, Vigo Video, Beauty Plus, Club factory Everything, News-Dog, UC news और VMate जैसे नाम शामिल हैं.

Photo: © TikTok.