PUBG पर पुलिस ने लगाई रोक, जानिए कहां

स्वर्णकांता - 10 मार्च, 2019 - पूर्वाह्न 10:46 IST बजे
PUBG पर पुलिस ने लगाई रोक, जानिए कहां
गुजरात के राजकोट में ऑनलाइन गेम PUBG को खेलने पर पुलिस ने पाबंदी लगा दी है.

(CCM) — ऑनलाइन गेम PUBG पर चीन के बाद अब भारत में संकट के बादल मंडराने लगे हैं. राजकोट पुलिस ने हानिकारक और 'नशीला' बताते हुए इस पर रोक लगा दी है.

अब भारत भी युवाओं के बीच इस ऑनलाइन गेमिंग के प्रति बढ़ती लत को देखते हुए सतर्क हो गया है. इससे पहले गुजरात और महाराष्ट्र सरकार ने इस गेम को बच्चों के लिए खतरनाक और एडिक्टिव बताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग उठाई है. और अब राजकोट पुलिस ने इस ऑनलाइन गेम को बच्चों के लिए हानिकारक और नशीला बताते हुए पाबंदी लगा दी है. पिछले दिनों राजकोट पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक ये पाबंदी 9 मार्च से लागू हो जाएगी.

पुलिस की ओर से एक बार रोक लग जाने के बाद केंद्र सरकार की धारा 188 के तहत PUBG खेलने वाले की रिपोर्ट की जा सकेगी. दोषी पाए जाने पर उस शख्स पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

PUBG ने हाल ही में एक साल पूरा किया है. 'पबजी' को दक्षिण कोरियाई वीडियो गेम कंपनी ब्लूहोल की एक सहायक 'पबजी' निगम ने तैयार किया है. चीन की कंपनी टेनसेंट ने उसका मोबाइल पोर्ट बनाया है.

ऑनलाइन गेमिंग की दुनिया में इस समय PUBG यानी प्लेयर्स अननोन बैटल ग्राउंड, सबसे ज्यादा चाहा जाने वाला गेम बन गया है.

भारत में इसके लाखों दीवाने हैं, पर पिछले छह महीने से पबजी को राज्य सरकारों के साथ ही माता-पिता और अभिभावकों की ओर से कड़ी आलोचना का शिकार होना पड़ा है. बताया जा रहा है कि बच्चे और किशोर इसकी लत के शिकार हो रहे हैं. उनमें हिंसक व्यवहार देखने को मिल रहा है. इससे तंग आकर एक मां ने तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाल में हुए, परीक्षा पे चर्चा 2.0 में पबजी पर चिंता जताई.

माता-पिता ही नहीं, प्रशासन ने भी इस ऑनलाइन गेम पर चिंता जाहिर की है. हाल ही में गोवा के एक मंत्री ने इस हर घर में मौजूद 'शैतान' बताया. जम्मू में पबजी गेम के कारण एक फिटनेस ट्रेनर के कथित तौर पर अपना मानसिक संतुलन खो देने की खबर सामने आने के बाद, वहां भी इस खेल पर रोक लगाने की मांग उठाई गई है.

गौर करने वाली बात है कि पबजी पर रोक लगाने वाला सूरत भारत का पहला शहर है. इस संदर्भ में कमीश्नर के कार्यालय से एक नोटिफिकेशन जारी किया गया है जो 15 मार्च से लागू होगा. दरअसल 23 जनवरी को गुजरात सरकार ने केंद्र सरकार को इस गेम ऐप पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग करते हुए एक पत्र लिखा था.

शिकायतें बढ़ती हुई देखते हुए PUBG की ओर से बयान जारी किया गया है. कंपनी ने शिकायतों को स्वीकर करते हुए वादा किया है कि वो गेम को पहले से अधिक जवाबदेह बनाएगी. कंपनी के मुताबिक वो गेम में सुधार लाने के लिए पेरेंट्स, एजुकेटर्स और गर्वन्मेंट बॉडी के साथ बातचीत कर रही है. बताया जा रहा है कि दुनिया भर में इसके खेलने वालों की तादाद बढ़कर अब 3 लाख हो गई है.

PUBG Mobile चीन में 9 फरवरी 2018 और पूरी दुनिया में 18 मार्च 2018 को लॉन्च किया गया था. गेम एक जापानी थ्रिलर फ़िल्म 'बैटल रोयाल' से प्रभावित होकर बनाया गया जिसमें सरकार छात्रों के एक ग्रुप को जबरन मौत से लड़ने भेज देती है. करीब 20 करोड़ से ज्यादा लोग इस गेम को डाउनलोड कर चुके हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दुनिया की कितनी आबादी इस गेम की दीवानी है.

Photo: © Tencent Games.