Redmi Note 6 Pro बस 11 रु में, सच या फर्जी खबर

स्वर्णकांता - 16 जनवरी, 2019 - अपराह्न 07:56 IST बजे
Redmi Note 6 Pro बस 11 रु में, सच या फर्जी खबर
Redmi Note 6 Pro के बस 11 रु में मिलने की खबर चर्चा में है.

(CCM) — पिछले दो दिनों से Xiaomi के Redmi Note 6 Pro को बस 11 रु में खरीदने के ऑफर पर गहमा गहमी छाई हुई है. क्या ऐसा हो सकता है, आइए जानते हैं.

नवंबर 2018 में भारत में लॉन्च किए गए रेडमी नोट 6 प्रो की कीमत 13,999 रुपए है. इसे बड़े डिस्पले और ढेर सारे उपयोगी फीचर के साथ उतारा गया है. लेकिन यदि आपको पता चले कि इतना बेहतरीन फोन आपको बस 11 रुपए में मिल सकता है, तो आप विश्वास करेंगे?

दरअसल आम शख्स जतन अग्रवाल ने ट्विट करते हुए बताया कि उन्हें चीनी स्मार्टफोन निर्माता शाओमी की ओर से रेडमी नोट 6 प्रो के लिए धमाकेदार ऑफर मिला है. उन्होंने ट्विट में मैसेज का स्क्रीनशॉट लगाया है. मैसेज में लिखा है, "डियर कस्टमर, शाओमी का ये स्पेशल ऑफर केवल आपके लिए है. लेटेस्ट रेडमी नोट 6 प्रो को बस 11 रुपए में खरीदिए. जल्दी से क्लिक (लिंक) कीजिए!"

बता दें कि शाओमी का Redmi Note 6 Pro फिलहाल बाजार में 15,000 रुपए के भीतर आने वाले किफायती स्मार्टफोन में सबसे अधिक पसंद किया जा रहा है. इसके अलावा यह भारत में सबसे अधिक बिकने वाला बजट स्मार्टफोन भी है. बाजार में ये कमोबेश ऐसे ही फीचर वाले स्मार्टफोन के मुकाबले अधिक हिट रहा है.

ऐसे मैसेज पाकर कोई भी खुशी से उछल पड़ेगा. आजकल लोगों का ध्यान पाने के लिए ऐसे ही बेसिर-पैर के मैसेज के जरिए मार्केटिंग की जा रही है. केवल 11 रुपए में स्मार्टफोन बेचने का दावा करना, सरासर धोखेबाजी है. इसीलिए शाओमी ने इसकी खबर लगते ही तुरंत इसका खंडन किया.

शाओमी इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर और ग्लोबल वाइस प्रेसीडेंट मनु कुमार जैन ने ट्विट करते हुए इस मैसेज को फर्जी बताया है. साथ में उन्होंने इस तरह के मैसेज पर भरोसा न करने की भी सलाह दी है.

जतन अग्रवाल ने ट्विटर पर मैसेज का स्क्रीनशॉट पोस्ट करते हुए उसे TRAI, Xiaomi इंडिया और Jio Care को टैग किया है. ट्विट में उन्होंने ये भी कहा है कि 11 रुपए में रेडमी नोट 6 प्रो मिलने की खबर झूठी है और यूजर इसके बहकावे में ना आएं. उन्होंने आगाह किया कि मैसेज में भेजा गया लिंक क्लिक करने पर, हो सकता है ये आपको किसी फर्जी वेबसाइट पर ले जाए या आपका कंप्यूटर, स्मार्टफोन रैनसमवेयर या वायरस से संक्रमित हो जाए.

मनु जैन ने भी ट्विट करते हुए इस मैसेज को फर्जी बताया और लोगों को इसके झांसे में आने से बचने की सलाह दी है. यही बात रेडमी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी दोहराई गई है. साथ में ये भी बताया गया है कि ऐसे मैसेज पाने वाले यूजर लिंक को क्लिक करने से पहले शाओमी इंडिया की वेबसाइट पर जाएं, वहां चेक करें, तभी इस पर विश्वास करें.

Photo: © iStock.

यह भी पढ़ें