क्यों टल रहा है Patanjali के Kimbho का लॉन्च

स्वर्णकांता - 29 अगस्त, 2018 - अपराह्न 03:31 IST बजे
क्यों टल रहा है Patanjali के Kimbho का लॉन्च
पतंजलि के किम्भो चैट ऐप का लॉन्च फिर से टाल दिया गया है.

Patanjali के Kimbho चैट ऐप को मई में सुरक्षा और परफॉर्मेंस में कमी के कारण गूगल प्ले स्टोर से हटा लिया गया था. किम्भो के लॉन्च की नई तारीख की घोषणा जल्दी ही होगी. इसे 27 अगस्त को लॉन्च होना था.


पतंजलि आयुर्वेदिक के मैनेजिंग डायरेक्टर आचार्य बालकृष्ण ने कंपनी के ऑफिशियल फैसले पर बात की, "हम जितनी जल्दी हो सके ऐप के ऑफिशियल लॉन्च की नई तारीख का ऐलान करेंगे."

व्हाट्सऐप को टक्कर देने के लिए तैयार किए गए इस स्वदेशी' ऐप को गूगल प्ले स्टोर से सबसे पहले मई में हटा लिया गया था. इसके बाद ये दूसरी बार 15 अगस्त को इस मोबाइल मैसेजिंग ऐप का ट्रायल वर्जन "एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन" के साथ दिखा था. लेकिन जिसने भी इस ऐप को डाउनलोड किया, उसने कई तरह की गड़बड़ी होने की शिकायत की. यूजर्स ने ऐप में प्रोफाइल पिक्चर के सेटअप में दिक्कत और खराब यूजर इंटरफेस की बात कही.

इसके अलावा कुछ और कारण हैं जिनकी वजह से किम्भो ऐप के लॉन्च में देरी हो रही है. जैसे की यूजर की निजी जानकारियों का थर्ड-पार्टी के साथ शेयरिंग को लेकर कंपनी का पक्ष. वैसे तो किम्भो की प्राइवेसी पॉलिसी के बीटा वर्जन में ये साफ बताया गया है कि कंपनी यूजर्स की निजी जानकारियों को मार्केटिंग या कारोबारी मकसद से किसी थर्ड पार्टी कंपनी से शेयर नहीं करेगी, या नहीं बेचेगी. लेकिन इसमें ये भी कहा गया है कि यह ये उस सीमा तक आपकी निजी जानकारियों को थर्ड पार्टी के साथ शेयर करेगी, जितना किम्भो की सर्विस को सपोर्ट करने, उसे आगे बढ़ाने के लिए जरूरी होगा."

इस बाबत शिकायत मिलने पर नोएडा के सोशल रेवोल्यूशन मीडिया और रिसर्च प्राइवेट लिमिटेड की ओर से तैयार किया गया ये ऐप प्ले स्टोर पर फिर से गायब हो गया। दो दिन पहले ऐप का ट्रायल वर्जन 50,000 बार डाउनलोड किया गया. हर बार पतंजलि किम्भो के ऑफिशियल लॉन्च के लिए खुद को तैयार करता है, कि इसके स्टार्ट वर्जन में दिक्कत आनी शुरू हो जाती है.

कंपनी के अधिकारियों की मानें तो, उनके स्वदेशी ऐप के रास्ते में मल्टीनेशनल कंपनियां बार-बार रोड़े अटका रही हैं और साजिश का शिकार बना रही हैं.

कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्ट के मुताबिक अरबों डॉलर की बाबा रामदेव की आयुर्वेदिक कंपनी, पतंजलि के बारे में यूट्यूब, फेसबुक और गूगल जैसी सोशल मीडिया साइटों पर विरोधी बातें लिखी गई हैं. कंपनी ने इन तीनों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर रखा है और फैसले के इंतजार में है.

मिल रही जानकारी के मुताबिक किम्भो ऐप के लॉन्च होने में एक और बात अड़चन बन कर खड़ी है. किम्भो की कल्पना करने और उसे तैयार करने वाले अदिति कमल का कंपनी छोड़ना, ऐप के लिए मुसीबत साबित हुआ है. अदिति ने पतंजलि छोड़ दी है और अपना ‘बोलो’ मैंसेजर ऐप तैयार कर रहे हैं. कंपनी और अदिति के बीच शर्तों और नियमों को लेकर मतभेद हैं.

Photo: © ulyana_andreeva - Shutterstock.com