Google ने ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड P लॉन्च किया

Swarnkanta - 9 मई, 2018 - अपराह्न 03:11 IST बजे

Google ने ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड P लॉन्च किया

Google ने आधिकारिक रूप से अपने एंड्रॉयड P मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम का ऐलान कर दिया है.

(CCM) — इंटरनेट कंपनी Google ने अपनी डेवलपर कांफ्रेंस I/O-2018 में अपने ऑपरेटिंग सिस्टम Android P लॉन्च किया. कंपनी के भारतीय मूल के सीईओ सुंदर पिचाई ने इसके बारे में घोषणा की है.



गूगल की तीन दिनों तक चलने वाली सालाना इवेंट Google I/O-2018 डेवलपर कॉन्फ्रेंस का कल यानी मंगलवार को पहला दिन था. इस कॉन्फ्रेंस में कंपनी कई दिलचस्प ऐलान करने वाली है. इवेंट के पहले दिन कंपनी ने कई सारे फीचर्स और प्रॉडक्ट के बारे में जानकारी दी. इसमें सबसे खास घोषणा रही एंड्रॉइड P की. इसमें अडैप्टिव बैटरी, अडैप्टिव ब्राइटनेस, डू नॉट डिस्टर्ब मोड जैसे कई खास फीचर हैं.

सलाना इवेंट में कंपनी ने नए ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड पी के बारे में कई बातें बताईं. एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम के नए वर्जन एंड्रॉयड पी में गूगल के कोर स्ट्रेंथ AI और मशीन लर्निंग पर ज्यादा जोर है. गूगल ने इसमें कई फीचर्स ऐड किए हैं. उनमें अडैप्टिव बैटरी, अडैप्टिव ब्राइटनेस, ऐप ऐक्शंस, स्लाइसेज के अलावा और भी बहुत कुछ शामिल होगा.

गूगल के एंड्रॉयड पी में अडेप्टिव बैटरी फीचर होगी. कंपनी इस फीचर के जरिए स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ बेहतर बनाना चाहती है. एंड्रॉइड पी मशीन लर्निंग के साथ फोन की बैटरी लाइफ, फोन के सीपीयू परफॉर्मेंस को भी सुधारेगा. अलग अलग यूजर अलग अलग ऐप और सर्विसेज का इस्तेमाल करते हैं. ये फीचर उन ऐप और सर्विसेज पर ध्यान देगा. इसके जरिए बाकी ऐप से बैटरी बचाई जा सकेगा और फोन की बैटरी लाइफ बढ़ सकेगी.

एंड्रॉयड पी का अडेप्टिव ब्राइटनेस फीचर की मदद से स्मार्टफोन अपनी स्मार्ट लर्निंग के जरिए अपने आप ब्राइटनेस एडजस्ट कर सकेगा. आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी की मदद से अपने आप पता किया जा सकेगा कि यूजर अलग-अलग लाइट कंडीशन में फोन की ब्राइटनेस कैसी रख सकते हैं. और ये फीचर उसे अपने आप एडजस्ट करता रहेगा. यह भी फोन की बैटरी लाइफ बढ़ाएगा.

यही नहीं, नया ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर्स को अपने स्मार्टफोन का स्मार्ट यूज करने में भी मदद करेगा. वे आसानी से मल्टीटास्किंग कर सकेंगे. जैसे कि फोन के होम बटन को स्लाइड करने पर ऐप स्विच किया जा सकेगा. स्मार्टफोन में वॉल्यूम इंटरफेस पर प्रीसेट आइकन मिलेंगे. इनमें म्यूट, वाइब्रेशन और फुल रिंग जैसे ऑप्शन होंगे.

एंड्रॉइड P यूजर्स को यह भी बता सकता है कि उन्होंने किस ऐप के साथ कितना वक्त बिताया है. कौन से ऐप का वे कितना इस्तेमाल करते हैं, यूजर्स यह भी जानेंगे. और इस तरह वे यदि किसी ऐप पर ज्यादा समय बिता रहे हैं तो उसकी टाइम लिमिट भी सेट कर सकेंगे.

जिस स्मार्टफोन में नया एंड्रॉयड पी होगा यूजर उसे डू नॉट डिस्टर्ब मोड पर सेट कर सकेंगे. ऐसा करने से न सिर्फ फोन के नोटिफिकेशन बल्कि बाकी डिस्टर्बेंस को भी साइलेंट किया जा सकेगा. इसके अलावा आप अपने स्पेशल कॉन्टेक्ट को स्टार कर सकेंगे. इससे आप आसानी से उनकी ओर से आने वाले नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

गूगल का लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम अभी एंड्रॉयड ओरियो है. एंड्रॉयड ओरियो में कई नए फीचर्स हैं. और ज्यादातर स्मार्टफोन कंपनियां अपने डिवाइस में एंड्रॉयड ओरियो (Android Oreo) का ऑपरेटिंग सिस्टम दे रही हैं. अब कुछ ही दिनों में नए स्मार्टफोन में एंड्रॉयड के नए वर्जन एंड्रॉयड पी का इस्तेमाल शुरू हो जाएगा.

Photo: © tanuha - Shutterstock.com