NaMo ऐप एक्सेस कर सकती है फोन की अहम जानकारियां

NaMo ऐप एक्सेस कर सकती है फोन की अहम जानकारियां
NaMo App आपके कैमरा, कॉन्टैक्ट, माइक्रोफ़ोन सहित 22 तरह के इनपुट का एक्सेस लेता है.

(CCM) — फेसबुक डाटा विवाद के बाद भारत में NaMo App पर बहस छिड़ गई है. आरोप है नमो ऐप डाउनलोड करने पर निजी डाटा बिना आपकी सहमति के तीसरे के पास चला जाता है. 'द इंडियन एक्सप्रेस' के मुताबिक NaMo App कैमरा, कॉन्टैक्ट सहित 22 तरह के इनपुट का एक्सेस लेता है.

'द इंडियन एक्सप्रेस' की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि मुताबिक नरेंद्र मोदी एंड्रॉयड ऐप यानी NaMo App कैमरा, माइक्रोफ़ोन, गैलरी, कॉन्टैक्ट और लोकेशन के अलावा यूजर के फोन के 22 फ़ीचर्स तक एक्सेस की अनुमति मांगता है.

हाल ही में उठा डाटा लीक विवाद का असर ब्रिटेन और अमेरिका होते हुए अब भारत पहुंच चुका है. इसकी लपेट में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आधिकारिक मोबाइल ऐप NaMo App आ गया है. मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नमो ऐप यूजर्स से ली गयी कुछ जानकारियों को यूजर्स को पहले से बताए बिना एक अमेरिकी कंपनी के साथ शेयर करता है. 'द इंडियन एक्सप्रेस' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि नमो ऐप इसे डाउनलोड करने वालों के मोबाइल फोन से 22 सूचनाएँ लेने की इजाजत ले लेता है.

दरअसल जब भी आप कोई ऐप डाउनलोड करते हैं तो वो आपसे 'टर्म एंड कंडिशन' ACCEPT करने के लिए पूछता है. उसे स्वीकार करने के बाद ही आप ऐप इंस्टाल कर सकते हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नरेंद्र मोदी ऐप अमेजन इंडिया, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ), इंडियन एक्सप्रेस और समाजवादी पार्टी के मोबाइल ऐप सभी से ज्यादा जानकारी यूजर्स से माँगता है.

नमो ऐप भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री से जुड़ी गतिविधियों के बारे में यूज़र को जानकारियां देता है. नमो ऐप को 50 लाख से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.

विपक्षी कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने नमो ऐप पर डाटा चोरी करके अमेरिकी कंपनी को देने के आरोप लगाए हैं. हालांकि बीजेपी ने इन दावों को ख़ारिज किया है.

Photo: © Leonardo daJio - Shutterstock.com