Google Maps वॉयस नेविगेटर अब 6 भाषाओं में

Swarnkanta - 14 मार्च, 2018 - अपराह्न 02:51 IST बजे

Google Maps वॉयस नेविगेटर अब 6 भाषाओं में

भारत में Google Maps में वॉयस नेविगेशन सेवा अब 6 भाषाओं में मिलेगी.

(CCM) — Google Maps का वॉयस नेविगेशन अब गुजराती, कन्नड़, बंगाली, तमिल, मलयालम और तेलुगु में भी उपलब्ध होगा. कंपनी ने हिंदी में ये सेवा तीन साल पहले शुरू की थी. बेहतर, सटीक और आसान सर्च के लिए गूगल “Add an address” फीचर भी लेकर आया है.



गूगल मैप नेक्स्ट बिलियन यूजर के डायरेक्टर सुरेन रुहेला कहते हैं, “कुछ दिन पहले ये फीचर चुपचाप लॉन्च कर दिया गया था. हमने पाया कि लोगों ने अपने ऐड्रेस ऐड करने शुरू कर दिए हैं. इससे पता चलता है कि लोग चाहते हैं कि उनके ऐड्रेस को खोजा जाए.”

हालांकि गूगल ने लोगों को ऐड्रेस ऐड करते समय किसी भी तरह की निजी जानकारी या नाम डालने से बचने की सलाह दी है.

कंपनी के एक अधिकारी का कहना है, “यदि दुर्भाग्य से ऐसा कुछ होता है तो गूगल के पास ऐसी तकनीक है जो ऐड किए गए ऐड्रेस को निष्प्रभाव कर देगी ताकि यूजर को किसी तरह का खराब अनुभव ना हो.”

इसके अलावा Google Maps ने भारत में “Smart Address Search” भी लॉन्च किया है. अब लंबे-लंबे और जटिल ऐड्रेसेज को सर्च करना आसान बना दिया है. .

रुहेला के मुताबिक Google India ने “Smart Address Search” के रिजल्ट को बेहतर बनाने के लिए Machine Learning (ML) को प्रयोग में लाने की दिशा में प्रयास जारी रखा है.

मान लीजिए कि कोई यूजर किसी ऐड्रेस के बारे में ठीक-ठीक नहीं जानता. और Maps भी उस ऐड्रेस को ठीक से समझ नहीं पा रहा है. लेकिन यूजर को ऐड्रेस के आस-पास मौजूद खास लैंडमार्क या लोकेलिटी के बारे में पता हो, तो “Smart Address Search” छोटे-छोटे टुकड़ों में मौजूद इन सारी जानकारियों को ऐड्रेस में डालेगा. फिर इनकी मदद से यूजर अपने इलाके को बेहतर तरीके से पहचान पाएगा.

Google ने किसी भी लोकेशन की सटीक जानकारी के लिए एक और नया फीचर जारी किया है. इस नए फीचर का नाम “Plus Codes” है. Google का मानना है कि भारत में अक्सर आवासीय पता खोजना टेढ़ी खीर होती है. वैसे कुछ ऐड्रेस अच्छी तरह बताए गए होते हैं जिनमें स्ट्रीट नेम और हाउस नंबर भी होते हैं. इनकी मदद से पते पर पहुंचना आसान होता है. पर यदि ये सब ना हों तो ऐड्रेस का पता लगाना मुश्किल हो जाता है.

सुरेन रुहेला कहते हैं कि “भारत में लाखों जगहें ऐसी हैं, खासकर दूरदराज के इलाकों में, जिनका पता लगाना मुश्किल होता है. हम इन चुनौतियों का हल खोजने में पूरी प्रतिबद्धता से लगे हैं.”

“Plus Codes” सुविधाजनक और सुसंगत ऐड्रेसिंग सिस्टम है जो न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया में काम करता है. 'प्लस कोड' में 6 कैरेक्टर शामिल होंगे. इन कोड्स को शहर के नाम के साथ इस्तेमाल करना होगा. यूजर किसी भी लोकेशन को सर्च करने के लिए इस कोड को शेयर कर सकेंगे. इसके साथ ही लोकेशन सर्च करने के लिए इस कोड को शेयर किया जा सकेगा. गूगल का नया फीचर डेस्कटॉप और स्मार्टफोन दोनों ही प्लेटफॉर्म को स्पोर्ट करेगा.

इससे पहले गूगल ने 10 मार्च को Google Maps पर Mario mode भी शुरू किया है. मतलब अब गूगल मैप पर आपका सुपर हीरो Mario रास्ता बताएगा. पहले जब आप नेविगेशन के लिए गूगल मैप खोलते थे तो आपको अपने फोन की स्क्रीन पर एक चलता हुआ तीर दिखाई देता था. अब इस तीर की जगह आपको मारियो अपनी कार में बैठा दिखाई देगा. वही आपके साथ साथ रास्ता दिखाता चलेगा.

गूगल मैप पर मारियो को देखने के लिए आपको अपना मैप अपडेट करना होगा. इसके बाद जब आप डेस्टिनेशन प्लाइंट डालेंगे तो आपकी स्क्रीन पर '?' दिखाई देगा. इस पर क्लिक कीजिए, आपका मारियो मोड एक्टिवेट हो जाएगा.

इसके लिए गूगल ने मारियो गेम बनाने वाली कंपनी निन्टेंडो से करार किया है. ये नया फीचर एंड्रॉयड और आईओएस दोनों यूजर्स के लिए है.

Photo: © think4photop - Shutterstock.com