फेसबुक ने समय की नई इकाई 'फ्लिक' खोजी

स्वर्णकांता - 24 जनवरी, 2018 - अपराह्न 05:25 IST बजे
फेसबुक ने समय की नई इकाई 'फ्लिक' खोजी
फेसबुक का दावा है कि उसने समय की नई यूनिट यानी सेकेंड का 70 करोड़वां हिस्सा खोज निकाला है.

फेसबुक इंजीनियर क्रिसटोफर होवथ ने टाईम की एक नई यूनिट खोज निकाली है. इसे उन्होंने 'फ्लिक' नाम दिया है. शेयरिंग वेबसाइट 'GitHub' के मुताबिक, फ्लिक की मदद से डेवेलपर्स वीडियो इफेक्ट्स को सिंक में रख सकेंगे. हम अब तक सेकेंड की सबसे छोटी यूनिट नैनोसेकेंड के रूप में जानते थें.


GitHub के मुताबिक एक फ्लिक यानी "समय की वो सबसे छोटी इकाई जो नैनोसेकेंड से बड़ी होती है." एक फ्लिक यानी सेंकेड का 70वां करोड़ हिस्सा () होता है. तुलना करें तो नैनोसेकेंड सेकेंड का 1/1,000,000,000वां हिस्सा और फ्लिक 1/705,600,000वां हिस्सा होता है. फ्लिक को प्रोग्रामिंग भाषा 'सी++' में परिभाषित किया गया है. इसका इस्तेमाल किसी फ़िल्म, टीवी शो या मीडिया में विज़ुअल इफेक्ट्स के लिए किया जाता है.

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधविज्ञानियों के मुताबिक "फ्लिक की खोज से अब वर्चुअल दुनिया के अनुभवों को अधिक बेहतर बनाने में मदद मिलेगी. फ्लिक को प्रोग्रामिंग भाषा 'सी++' में परिभाषित किया गया है. इसका इस्तेमाल किसी फ़िल्म, टीवी शो या मीडिया में विज़ुअल इफेक्ट्स के लिए किया जाता है. फ्लिक की खोज होने के बाद अब प्रोग्रामर्स फ्रैक्शंस के इस्तेमाल बिना मीडिया फ्रेम्स के बीच का वक्त जान सकेंगे.

जानकारों का कहना है कि अब तक ग्राफिक्स में अटकने जैसी जो गलतियां होती हैं, फ्लिक के आने से इसमें कमी आएगी. क्योंकि जब इस्तेमाल किए हुए नंबर पूरी संख्या के न हों, तब कंप्यूटर की कैलकुलेशन में धीरे-धीरे ग़लतियां होने लगती हैं. इन गलतियों को बाद में ठीक तो किया जा सकता है. लेकिन ये अशुद्धियां ध्यान देने योग्य होती हैं.

फ्लिक को बनाने वाले क्रिस्टोफर होर्वाथ ने 2017 में इस आइडिया को फेसबुक पर शेयर किया था. 'गिटगब' के मुताबिक, इसके बाद फीडबैक में लोगों से मिले कमेंट्स के बाद उन्होंने इसमें बदलाव किए. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता ने कहा, "फ्लिक की वजह से डेवलपर्स को देरी से निपटने में मदद मिलेगी. किसी कंप्यूटर गेम को खेलते हुए आप जो जुड़ाव महसूस करते हैं, वो तन्मयता है. मौजूदगी आपके दिमाग की वो भावना है, जिसमें आपको लगता है कि आप वहां हैं. मौजूदगी को बेहद आसान तरीके से भंग किया जा सकता है. मुझे लगता है कि वक्त के चरणों को एक तय तरीके से परिभाषित किए जाने से डेवलपर्स को आसानी होगी."

यह भी पढ़ें