UIDAI ने 5000 अधिकारियों पर लगाम कसी

स्वर्णकांता - 9 जनवरी, 2018 - अपराह्न 03:28 IST बजे
UIDAI ने 5000 अधिकारियों पर लगाम कसी
UIDAI ने आधार पोर्टल के लिए नियुक्त लगभग 5000 अधिकारियों पर लगाम कस दी है.

(CCM) — आधार बनाने वाली अथॉरिटी UIDAI ने आधार पोर्टल के लिए नामित 5000 अधिकारियों पर पाबंदी लगा दी है. अब वे पोर्टल को एक्सेस नहीं कर पाएंगे. एक अखबार के मुताबिक मात्र 300 रुपए में 10 मिनट के भीतर करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी हासिल कर ली गई.


अंग्रेजी अखबार द ट्रिब्यून में 4 जनवरी को छपी एक खबर में दावा गया था कि उसने एक तहकीकात की है जिसमें उन्होंने एक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से मात्र 500 रुपये में सर्विस खरीदी और करीब हर भारतीय के आधार कार्ड का एक्सेस मिल गया.

एक सरकारी अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर जानकारी दी, "नामित अधिकारियों को एक्सेस के लिए जो भी सुविधाएं दी गई हैं उन्हें वापस ले लिया गया है."भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी यूआईडीएआई ने तुरंत एक्सेस सिस्टम को दुरुस्त कर लिया है. अब किसी भी व्यक्ति को बायेमेट्रिक्स डालने के बाद ही सिस्टम का एक्सेस मिलता है.

पहले जो व्यवस्था थी उसमें राज्य सरकार ने कुछ खास अधिकारियों को नियुक्त किया था. ये सरकारी और प्राइवेट ऑपरेटर्स दोनों थे. उन्हें पोर्टल का 'लिमिटेड' एक्सेस मुहैया कराया गया था. एक अधिकारी ने जानकारी दी कि पहले ये व्यवस्था थी कि कंपनी की ओर से नामित अधिकारी ही आधार कार्ड होल्डर के डेमोग्राफिक डिटेल को चेक करेगा. वो 12 अंकों वाली पहचान संख्या को डाल कर होल्डर का नाम, पता, जन्मतिथि आदि चेक करे ताकि जो भी बदलाव करने हैं वो आसानी से किए जा सकें." अधिकारी ने बताया कि बदलाव के लिए UIDAI को हर दिन लगभग 500,000 आवेदन प्राप्त होते हैं.

सुरक्षा के मद्देनजर जो नया सिस्टम तैयार किया गया है उसमें आधार होल्डर के फिंगरप्रिंट की मदद से एक्सेस की पुष्टि की जाती है और जो भी जानकारियां उपलब्ध होती हैं वो केवल उस व्यक्ति तक सीमित होती हैं. अधिकारी का कहना है कि "जो कम समय में अपनी डिटेल चाहते हैं उनके लिए यह सिस्टम असुविधाजनक हो सकता है. लेकिन इससे भविष्य में किसी तरह की परेशानी या धोखाधड़ी से बचा जा सकेगा."

हालांकि UIDAI ने अपने सुरक्षा प्रोटोकॉल में किसी तरह की खामी से इंकार किया है. उसने न्यूज रिपोर्ट को देखते हुए एफआईआर भी दर्ज कराई. कंपनी के मुताबिक बायोमैट्रिक जानकारी सहित आधार का का डाटा पूरी तरह सुरक्षित है. यूआईडीएआई भरोसा दिला चुका है, "आधार डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है और यह किसी भी तरह से लीक नहीं हो सकता है."

Photo: © CRSHELARE - Shutterstock.com