क्रिसमस पर माइक्रोसॉफ्ट ने दिया XBox वन गिफ्ट

स्वर्णकांता - 19 दिसम्बर, 2017 - पूर्वाह्न 09:16 IST बजे
क्रिसमस पर माइक्रोसॉफ्ट ने दिया XBox वन गिफ्ट
माइक्रोसॉफ्ट ने नौ साल के बच्चे को उसकी नेकी से खुश होकर गेमिंग कंसोल XBox वन एक्स तोहफे में दिया है.

(CCM) — दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी ने अमरीका के ओहायो प्रांत मे रहने वाले नौ साल के मिका फ्राय को XBox One X उपहार में दिया है. असल में मीका की दादी उसको क्रिसमस के मौके पर 300 डॉलर का XBox वन गिफ्ट करना चाहती थीं. पर इस नन्हे बच्चे ने उस रकम को गरीबों के लिए कंबल खरीदने में खर्च कर दिए.


मिका इस बार क्रिसमस पर समाज के वंचित और गरीब लोगों के लिए कुछ करना चाहता था. उसने अपने क्रिसमस गिफ्ट का मोह त्याग कर उस रकम से कंबल खरीदे और ठंड में खुले में सोने वाले बेघर लोगों को दान किया.

मिका फ्राय ने 30 बेघर लोगों को कंबल दान में दिए. उनकी इस उदारता की खबर जब माइक्रोसॉफ्ट को लगी तो कंपनी ने इस बच्चो को उनका उत्साह बढ़ाने के लिए गिफ्ट देने का फैसला किया.

मिका जब माइक्रोसॉफ्ट स्टोर पहुंचे तो वहां कुछ और गिफ्ट उनकी बाट जोह रहे थे. उन्हे इसके अलावा कुछ और गेम और एक्सेसरीज भी उपहार में मिली हैं.

ऐशलैंड चर्च कम्युनिटी इमरजेंसी शेल्टर सर्विस की मदद से फ्राय ने कंबलों के साथ एक नोट भी लिखकर बांटें. "मैं चाहता हूं कि आपके पास आपका अपना कंबल हो. आज मैं अपने घर में रहता हूं. किसी दिन आपका भी अपना घर होगा. आपका दोस्त मिका." इस शेल्टर सर्विस में कुछ साल पहले मिका और उसके परिवार वालों को भी पनाह लेनी पड़ी थी.

फ्राय की दादी टेर्री ब्रांट बताती हैं कि बेघर होने के अनुभव ने उसे दूसरों को मदद करने के लिए प्रेरित किया. एक बार वो अपनी दादी के साथ कहीं बाहर था. तभी उसने कुछ लोगों को फुटपाथ पर बिना कंबल के सोए हुए देखा. उसने दादी से पूछा कि इन सर्दियों में वे कैसे बिना कंबल के खुद को गर्म रखते होंगे. और सोचा कि यदि उन्हे कंबल दिया जाए तो उनकी कुछ मदद हो जाएगी.

दादी बताती हैं, "उसे पता था कि रात के वक्त बिना कंबल के सोने का मतलब क्या होता है. इसलिए उसने उन्हें र्म कंबल देने का तय किया." दादी को जब पता चला कि माइक्रोसॉफ्ट फ्रे को उसकी दरियादिली के लिए ईनाम एक्सबॉक्स वन एक्स देने वाली है तो उंनकी खुशी का ठिकाना नही रहा.

फ्राय जब माइक्रोसॉफ्ट स्टोर पहुंचे तो वहां के कर्मचारियों ने एक कतार में खड़े होकर उनका तालियों से स्वागत किया.

Photo: © Jonathan Weiss - Shutterstock.com