जीएसटी का मोबाइल मार्केट पर क्या असर पड़ेगा

RanuP - 26 जुलाई, 2017 - अपराह्न 04:58 IST बजे

जीएसटी का मोबाइल मार्केट पर क्या असर पड़ेगा

गुड्स और सर्विस टैक्स देश का सबसे बड़ा टैक्स रिफॉर्म माना जा रहा है. आइए जानते हैं कि इस रिफॉर्म ने मोबाइल बाजार पर क्या असर डाला है?

(CCM) — जुलाई से देश में गुड्स और सर्विस टैक्स लागू हो गया. यानी पूरे देश में किसी एक प्रोडक्ट के लिए एक ही टैक्स. एक मोबाइल की जो कीमत गोवा में थी वही दिल्ली में भी. पर मोबाइल मार्केट में इसका कितना असर हुआ है, आइए जानते हैं.



अगर आंकड़ों की बात करें तो इस साल स्मार्टफोन मार्केट की मांग 23.4 करोड़ पहुंच सकती है. यह पिछले साल से लगभग 11 प्रतिशत ज्यादा है. इसको अंग्रेजी में ईयर-ऑन-ईयर विकास कहते हैं. और यह आंकड़े साफ़ करते हैं कि पूरी मांग पर गुड्स और सर्विस टैक्स का कोई विशेष असर नहीं पड़ा.

इन आंकड़ों को दुनिया के एक बड़े मार्केट रिसर्च फर्म जीएफके ने रिलीज किया है. दूसरी तिमाही में भी मोबाइल बिक्री दर ठीक ही रही. ईयर-ऑन-ईयर तुलना करने पर भी 14 प्रतिशत की विकास दर दिखती है.

इसी प्रकार एशिया महाद्वीप में भी मोबाइल फोन बिकने में कोई कमी नहीं आई है. ईयर-ऑन-ईयर बिक्री दर भी बढ़कर 13 प्रतिशत पहुंच गई है.

सबसे शानदार ढंग से मांग बढ़ी है बांग्लादेश में. आंकड़ों के अनुसार इस साल स्मार्टफोन की मांग 40% तक बढ़ी है. मलेशिया में पिछले साल स्मार्टफोन की मांग घटने के बाद इस साल मार्केट संभल चुका है. वहां पर भी इस साल की दूसरी तिमाही में यह मांग 31% बढ़ गई है.

पर गुड्स और सर्विस टैक्स के आने से स्मार्टफोन कंपनियों को फायदा जरूर होगा. शाओमी, मोटोरोला जैसे बड़ी कंपनियों ने डिजिटल माध्यम से मार्केटिंग इसीलिए शुरू की थी क्योंकि इस मीडियम में यूजर तक पहुंचने के लिए अलग-अलग स्तर की मार्केटिंग और अलग-अलग राज्य का टैक्स सिस्टम फॉलो करना पड़ता था.

शायद इसी वजह से कोई फोन उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर बाराबंकी में अलग कीमत में मिलता था और इसी राज्य की राजधानी लखनऊ में एक अलग दाम पर. वहीं देश की राजधानी दिल्ली में यह और सस्ता मिलता था.

अब एक प्रोडक्ट पर एक ही टैक्स की वजह से फोन का दाम एक समान हो जाएगा. पर डीलर स्तर कमीशन देने में कुछ दिक्कत जरूर आ सकती है. कुल मिलाकर, जीएसटी यानी गुड्स और सर्विस टैक्स का मोबाइल मार्केट पर कोई विशेष असर नहीं दिखेगा.

Photo: © iStock.