बैटरी की होड़ में एंड्रॉयड की खास पहल

Swarnkanta शुक्रवार 23 अक्टूबर, 2015 को अपराह्न 123945 बजे

बैटरी की होड़ में एंड्रॉयड की खास पहल

स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियों के बीच बैटरी को लेकर चल रही होड़ में गूगल ने साहस भरा कदम उठाया है.

मोबाइल कंपनियों के कारोबार में ये कहना मुश्किल है कि कौन यूजर क्या चाहता है. उपयोगिता, कैमरा, प्रोसेसिंग पावर या दूसरी प्रतियोगी विशेषताओं में लगातार सुधार यूजर को ब्रांड के प्रति लॉयल रखता है.

हाल में स्मार्टफोन बनाने और डेवलप करने वाली कंपनियों ने बैटरी लाइफ पर सारा ध्यान केंद्रित करना शुरू किया है. और जब पैसे को बदले फोन लाइफ के घंटों की सुविधा पाने की बात हो तो गूगल अपने नए एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम में बैटरी क्षमता के लिेए कुछ साहसिक कदम उठाने जा रहा है.

एंड्रॉयड वीपी हिरोशी लॉकीमेर ने आधिकारिक एंड्रॉयड ब्लॉग पर बताया, "बैटरी लाइफ में सुधार करने का मतलब बड़ी बैटरी बनाने से नहीं है." उन्होंने कहा, "इसका मतलब ये है कि आपकी डिवाइस अपने चार्जर को इस्तेमाल करने के तरीके को बेहतर बनाएं."

एंड्रॉयड मार्शमेलो, जो पहले ही बाजार में आ चुका है, में दो नए फीचर Doze और App Standby आ रहे हैं. ये प्रीलोडेड होंगे और कुछ सीरियस रिजल्ट देंगे.

हिरोशी बताते हैं, "Doze की मदद से एंड्रॉ़यड इस बात का पता लगा लेगा कि आपका मोबाइल कब आराम कर रहाऔर फिर वो पावर बचाने के लिए इसे डीप स्लिप में भेज देगा."

उन्होंने ये भी कहा कि यदि इस फीचर की तुलना इसके पिछले OS से की जाए, तो स्टैंडबाई बैटरी की लाइफ 30 फीसदी बढ़ जाएगी. इस बीच App Standby वास्तव में उन ऐप को डीप स्लिप में भेजता है जो शायद ही कभी इस्तेमाल किए जाते हैं.

इन अपडेट के अलावा ऐसे ही कई और अपडेट आने वाले हैं. ये बताते हैं कि गूगल बैटरी क्षमता प्रदान करने में आगे रहने के अपने वादे को लेकर गंभीर है.

Photo: © Creative Commons - Flickr: Sylvain Naudin.
(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)