जानें पेटीएम पेमेंट बैंक में क्या है खास

RanuP - 24 मई, 2017 - अपराह्न 02:11 IST बजे

जानें पेटीएम पेमेंट बैंक में क्या है खास

भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से अनुमति मिलने के बाद अब पेटीएम 23 मई से पेमेंट बैंक शुरु करने जा रहा है.

(CCM) — बता दें कि पेटीएम की होल्डिंग कंपनी वन97 कम्युनिकेशन्स के संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा समेत 11 लोगों ने पेटीएम पेमेंट बैंक के लिए नवंबर 2015 में आवेदन किया था. जिसके लिए रिजर्व ऑफ इंडिया की तरफ से हरी झंडी मिल गई है.

इसके तहत अब ग्राहक डेबिट, क्रेडिट, और डिमांड ड्राफ्ट जैसी सुविधाओं का फायदा उठा सकेंगे. पेटीएम कंपनी के एचआर विभाग में बतौर मैनेजर शुरुआत करने वाली रेणु सत्ती को पेटीएम पेमेंट्स बैंक का सीईओ बनाया गया है, जो कंपनी के साथ पीछे एक दशक से है.

पेटीएम के पेमेंट ऐप पर सभी मौजूदा वॉलेट अकाउंट, पेमेंट बैंक पर ट्रांसफर कर दिए जाएंगे. पर अगर कोई ग्राहक ऐसा नहीं चाहता तो वो लिखित में ऍप्लिकेशन देकर अपना खाता सिर्फ वॉलेट तक सीमित रख सकता है. और अगर 6 महीने तक अकाउंट में जीरो बैलेंस हुआ तो ग्राहक को कंपनी को बताना होगा कि वो आगे उस सुविधा को यूज करना चाहते हैं या नहीं.

फिलहाल कंपनी के पास 218 मिलियन वालेट अकाउंट्स हैं. पर 2020 तक इस संख्या को 50 करोड़ तक पहुंचाने का लक्ष्य है. पेटीएम पेमेंट बैंक ने लांचिंग के 12 माह के अंदर 20 करोड़ खातों (चालू खाते, बचत खाते और मोबाइल वालेट) का लक्ष्य रखा है.

पेटीएम पेमेंट बैंक (पीपीबी) ने खाते में जमा राशि पर 4 फीसदी का ब्याज देने का फैसला किया है. साथ ही किसी भी तरीके के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पर किसी भी तरीका चार्ज नहीं लिया जाएगा. मिनिमम बैलेंस रखने जैसी भी कोई शर्त नहीं है. स्टेटमेंट ऑनलाइन ऑफलाइन दोनों ही माध्यम से मंगाई जा सकती है. हाँ, ऑफलाइन स्टेटमेंट के लिए 50 रूपए का चार्ज वसूला जाएगा.

Photo: © PayTM.
आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.