स्नैपचैट के सीईओ को भारत क्यों गरीब लगता है

RanuP - 17 अप्रेल, 2017 - पूर्वाह्न 10:57 IST बजे

स्नैपचैट के सीईओ को भारत क्यों गरीब लगता है

इमेज मैसेजिंग और मल्टीमीडिया मोबाइल ऐप स्नैपचैट के सीईओ इवान स्पीगल भारत अपने व्यवसाय के लिए फायदेमंद बाजार नहीं मानते.

(CCM) — सीईओ इवान स्पीगल ने भारत को बिजनेस की संभावनाओं के हिसाब से गरीब देश करार दिया है. इस बयान के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने सोशल साइट्स पर काफी बवाल मचाया हुआ है. ट्विटर पर #boycottsnapchat और #uninstallsnapchat ट्रेंड हो रहा है.



स्नैपचैप के सीईओ इवान स्पीगल के सामने कंपनी के एक कर्मचारी ने भारत जैसे बड़े बाजार में ऐप के धीमे विस्तार को लेकर चिंता जाहिर की थी. उनके हिसाब से भारत में स्नेपचैट का बड़ा व्यापर संभव नहीं और भारत के गरीब होनी की वजह से ऐसा है.

भारत में करीब 40 लाख लोग स्नैपचैट यूसर्स हैं. और भारत को लेकर दिये गये विवादित बयान के बाद इस कंपनी को बड़ा झटका लगा है. स्नैपचैट की गूगल ऐप स्टोर पर पांच स्टार वाली रेटिंग एक स्टार पर आ गयी है. जहां भारत में कई लोगों ने इसे अनइंस्टाल कर दिया है वही बाहर देशों में इसकी कड़ी निंदा हो रही है.

एक रिपोर्ट के अनुसार, सीईओ स्पीगल ने उस कर्मचारी की बात को बीच में ही काटते हुए कहा था कि ये ऐप केवल अमीर लोगों के लिए है और भारत और स्पेन जैसे गरीब देशों में इसका विस्तार करने में वो बिलकुल इच्छुक नहीं हैं

इस बयान के बाद यूजर्स में खासी नाराजगी देखी जा रही है. असल बात तो यह है कि स्नैपचैट मात्र कुछ महीनों में ही मेट्रो शहरों में रह रहे युवकों का फेवरिट ऐप बन चुका है. हालाँकि छोटे शहरों और कस्बों में इसके यूजर काम है.

शायद इसीलिए इसकी ग्रोथ भारत में उतनी तेज नहीं है जयंती फेसबुक की. इसी वजह से यह सवाल भी उठा. पर स्नैपचैट के संस्थापक से ऐसे जवाब की आशा तो नहीं थी. ख़बरों के अनुसार पिछले दो दिनों से लगातार स्नैपचैट के खिलाफ गूगल प्लेस्टोर पर निगेटिव रेटिंग दी जा रही है.

Photo: © ThomasDeco - Shutterstock.com
आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.