अब सिरी और गूगल पर हैकिंग का खतरा

Swarnkanta शुक्रवार 16 अक्टूबर, 2015 को अपराह्न 022524 बजे

अब सिरी और गूगल पर हैकिंग का खतरा

एक नई रिसर्च के मुताबिक कुछ विशेष परिस्थितियों में सिरी और गूगल पर हैकिंग का खतरा हो सकता है.

फ्रांसीसी नेशनल रिसर्च ग्रुप के अनुसार सिरी या गूगल कुछ खास परिस्थितियों में हैकरों के निशाने पर हो सकते हैं. Wired की एक रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांसीसी शोधकर्ताओं ने अपने रिसर्च में पाया कि आईफोन और एंड्रॉयड डिवाइस, जिनमें माइक्रोफोन-हेडफोन प्लग किए हुए होते हैं उन्हें इलेक्ट्रोमैगनेटिक हैकिंग के जरिए रिमोट कंट्रोल किए जाने का खतरा होता है.

शोधकर्ता जोस लोप्स स्टीव और चाउकी कासमी बताते हैं कि "वॉयस-कमांड-कैपेबिलिटी डिवाइसों के ऑडियो फ्रंट-एंड पर पारासिटिक सिग्नल के इन्ड्यूसिंग की संभावना महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रभावों को पैदा करती है." इसका असर एंड्रॉयड यूजर से ज्यादा आईफोन यूजर्स पर पड़ता है. ऐसा इसलिए क्योंकि हैक करने के लिए वॉयस कमांड का एनेबल होना जरूरी है. जहां एक ओर आईफोन ऑटो-एनेबल की सेटिंग के साथ आते हैं, एंड्रॉयड डिवाइस डिसेबल फीचर के साथ.

जहां ये खबर कई यूजर्स के लिए चिंता का विषय है, इसलिए उनके लिए ये जानना भी जरूरी है कि हैकर लगभग 6 फीट के भीतर के उपकरणों को निशाना बना सकते हैं, लेकिन यदि हैकर अधिक ताकतवर हुआ तो वह 16 फीट तक की दूरी के वाले डिवाइस को भी हैक कर सकता है.

इसके अलावा, ये खतरा तब होता है जब माइक्रोफोन या हेडफोन प्लग-इन होता है और वॉयस कमांड एक्टिवेटेड होता है.

पिछले महीने, एक दूसरे सिरी हैक से ये बात सामने आई थी कि कैसे हैकर आईफोन को निशाना बना कर पिक्चर या कॉन्टैक्ट इन्फॉरमेशन चुरा सकते हैं, यदि डिवाइस लॉक्ड हो या कहीं पड़ा हुआ हो. हालांकि हेडफोन हैक में ऐसी विशेष परिस्थितियों का होना जरूरी होता है जिससे यूजर बड़ी आसानी से बच सकते हैं, यदि वे असुरक्षा के बारे में परिचित हों और मोबाइल की सुरक्षा के लिए सामान्य तरीकों का अभ्यास करते हों.
Photo: © Creative Commons - Flickr: Ervins Strauhmanis.
(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)