इस देश में नाबालिग बच्चे ऑनलाइन गेम नहीं खेल सकेंगे

RanuP सोमवार 10 अक्टूबर, 2016 को पूर्वाह्न 103342 बजे

इस देश में नाबालिग बच्चे ऑनलाइन गेम नहीं खेल सकेंगे

चीन की सरकार एक अजीब सा निर्णय लेने का मन बना चुकी है. बच्चों को आधी रात के बाद ऑनलाइन गेम खेलना बैन हो सकता है.

(CCM) — चीनी बच्चे अपनी पढ़ाई में कम और ऑनलाइन गेम में ज्यादा मन लगा रहे हैं. कई बच्चे तो ऑनलाइन गेमिंग के एडिक्शन में फंस चुके हैं. फलस्वरूप सरकार आधी रात के बाद ऑनलाइन गेमिंग पर बैन लगाने का मन बना लिया है.

दरअसल पिछले कुछ महीनों में ऐसे कई सारे रिहैबिलिटेशन कैम्प की भरमार लग गई है जहां लोग अपने बच्च्को को इंटरनेट गेमिंग की लत छुड़ाने के लिए भर्ती करवा रहे हैं. इसको बूट कैम्प ट्रीटमेंट सेंटर भी कहा जाता है.

नए नियमों को चीन के सायबरस्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने पिछले सप्ताह एक ड्राफ्ट बनाकर सरकार के सामने पेश किया है. इस ड्राफ्ट पर अब लोगों की राय ली जाएगी. विभाग ने स्कूल, इंस्टीट्यूट आदि को भी सहयोग करने के लिए कहा है. अगर इस नियम को सरकार की आखिरी सहमति मिल गई तो सभी ऑनलाइन गेमिंग कंपनियों को 18 साल से कम उम्र के बच्चों को खेलने से रोकने के लिए एक एलोगोरिदम तैयार करना होगा. रात 12 बजे से 8 बजे तक तक यह गेम नाबालिग नहीं खेल पाएंगे.

जिस किसी को गेम खेलना होगा, उसके एक पहचान पत्र भी दाखिल करना होगा. जिससे उसकी उम्र की पुष्टि की जा सकेगी. यही जानकारी ऑनलाइन गेम ऑपरेटर के पास सुरक्षित भी रहेगी. ताकि सरकार गेमर की एक्टिविटी पर नजर रख सके.

इस नियम पर आम जनता फीडबैक देख सकेगी. सभी प्रतिक्रिया को को देखने के बाद ही इस नियम पर सरकार की सहमती मिलेगी. एक रिपोर्ट के अनुसार चीन के 23 प्रतिशत ऑनलाइन गेम की उम्र 19 साल या उससे कम है. इस लत से दूर करने के लिए मिलिट्री ट्रीटमेंट वाले बूट कैम्प शुरू किए गए हैं जहां बच्चों को इलेक्ट्रिक शॉक देकर यह लत छुड़ाई जा रही है. सरकार इससे सहमी हुई है. इसीलिए यह कदम उठाया जा रहा है.

Photo: © Rawpixel - Shutterstock.com
आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.