साइबर क्राइम से लड़ने के लिए भारत तैयार

RanuP - 19 जुलाई, 2016 - अपराह्न 07:38 IST बजे

साइबर क्राइम से लड़ने के लिए भारत तैयार

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने माना की सरकारी तंत्र को साइबर क्राइम से बचाने के लिए अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है.

(CCM) — मंगलवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मीडिया से बात करते हुए साफ किया कि देश का कंप्यूटर तंत्र अभी साइबर क्राइम से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार नहीं है. सरकार ने यह भी माना साइबर क्राइम करने वाले सभी लोगों को सजा भी नही मिल पाती है.

पर इसी के साथ राजनाथ सिंह ने यह भी साफ किया कि देश अब ऐसे मोड्यूल को डेवलप कर रहा है जिससे इन सभी खतरों से बचा जा सकेगा. गृहराज्य मंत्री किरण रिजीजू ने भी बताया कि साइबर क्राइम एक सच्चाई है जिसे निपटने के लिए उचित इंतजाम करना बहुत जरूरी है.

लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस के संसद सुदीप बंद्योपाध्याय के सवाल के जवाब में बोलते हुए रिजीजू ने कहा, "यह सच है कि देश में साइबर क्राइम के केस में आरोप बहुत कम ही साबित हो पाते हैं. पर सरकार इससे निपटने के लिए बहुत बड़ा कदम उठा लिया है. कई बार होता है कि साइबर क्राइम के मामले बेहद जटिल होते हैं और कई बार तो ऐसा होता है कि ऐसे केस रिपोर्ट ही नहीं किए जा सकते हैं.

साल 2013 एवं 2014 में बहुत ही कम लोगों को साइबर क्राइम केस सजा मिल पाई थी. सन 2015 में 844 लोगों में से मात्र 224 लोगों को ही सजा मिल पाई थी.

बंद्योपाध्याय ने संसद में पूछा कि, "सरकार इस मुद्दे पर क्या कदम उठाना चाहती है?" राजनाथ सिंह ने बताया कि भाजपा सरकार ने साइबर क्राइम से निपटने के लिए एक एक्सपर्ट ग्रुप बनाया है. ये ग्रुप अगले कुछ महीनों में ही अपनी रिपोर्ट दे देगी.

सिंह ने बताया, "एक्सपर्ट पैनल की रिपोर्ट हम तक पहुंच चुकी है. हम अब साइबर क्राइम से लड़ने की दिशा में काम कर रहे हैं."

Photo: © Rajnath Singh.
आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.