गुडबाय मोटो: लेनोवो मिटाएगा 'मोटोरोला' का वजूद

RanuP शनिवार 9 जनवरी, 2016 को पूर्वाह्न 122616 बजे

गुडबाय मोटो: लेनोवो मिटाएगा 'मोटोरोला' का वजूद

मोबाइल बाजार की सबसे चर्चित डील के लगभग 3 साल बाद लेनोवो ने यह निर्णय ले लिया है कि वो मोटोरोला ब्रांड का नाम हमेशा के लिए हटा देंगे.

लगभग दो दशक तक मोबाइल की दुनिया में छाए रहने के बाद अब वो समय आ गया है जब मोटोरोला अपनी पहचान हमेशा के लिए खोने वाला है. असल में यह बात शुरु हुई थी सन 2012 में जब चीनी कंपनी लेनोवो ने अमेरिकी कंपनी मोटोरोला को अच्छी खासी कीमत चुका कर खरीदा था.

दुनिया की कई डेवेलपिंग मार्केट में घाटा झेल रही मोटोरोला इस डील के बाद से मोबाइल बाजार में वापस पॉपुलर हो गई. भारत में ही कंपनी के मोटो G ने अपनी सफलता के परचम लहरा दिए. पर लगभग तीन साल बिना किसी बदलाव के काम करने के बाद अब लेनोवो ने निर्णय लिया है कि वो मोटोरोला का नाम बदल देंगे.

मोटोरोला के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर रिक ऑस्टरलोह ने यह बात एक वेबसाईट को दिए साक्षात्कार में बताई, "हम धीमे-धीमे मोटोरोला का नाम हटाने वाले हैं."

इसका यह मतलब भी निकला जा रहा है कि लेनोवो अपने मोबाइल फोन बिजनेस को वर्ल्ड-वाइड एक ही कंपनी में मर्ज करके चलाना चाहता है. पर अगर आप मोटोरोला के फैन हैं तो यह बात जाननी भी जरुरी है कि यह मोटोरोला का 'दी एंड' नहीं है. मार्केट में यह फोन मोटो नाम से आते रहेंगे. हो सकता है भविष्य में मोटोरोला के फोन लेनोवो मोटो या मोटो बाई लेनोवोनाम से मार्केट में उतारे जाएं.

यही नहीं, मोटो फोन अपने बैक पर कंपनी का आईकॉनिक सिम्बल भी वैसे सी मेंटेन करेंगे.

पर सच बात तो यह भी है कि कंज्यूमर के लिए कुछ भी नहीं बदलेगा. ब्रांड और क्वालिटी उसी तरह रखी जाएगी जैसे पहले थी. और वास्तविकता तो यह भी है की बुरे दौर से गुजरने के बाद कंपनी ने लेनोवो के साथ ही वापस मार्केट में जगह बनाई है. भारत जैसे बाजार में मोबाइल ग्राहक लेनोवो से ज्यादा मोटो फोन खरीदना पसंद करते हैं.

Photo: © मोटोरोला.
(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)