मोबाइल कॉल की 20वीं सालगिरह

Swarnkanta शुक्रवार 31 जुलाई, 2015 को अपराह्न 111004 बजे

मोबाइल कॉल की 20वीं सालगिरह

पिछले दशक की सूचना एवं प्रौद्योगिकी क्रान्ति से हमारी जिंदगी में सबसे बड़ा परिवर्तन लाने वाले मोबाइल फोन कॉल को आज पूरे 20 साल हो गए हैं.

जी हां, भारत में मोबाइल फोन से पहली कॉल आज से ठीक 20 साल पहले यानी 31 जुलाई 1995 को हुई थी. पश्चिम बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने कोलकाता से पहली मोबाइल कॉल तत्कालीन केंद्रीय संचार मंत्री सुखराम को की थी. 31 जुलाई 1995 से 31 जुलाई 2015 के बीच के 20 सालों में भारत में मोबाइल फोन सेवा ने काफी लंबा सफर तय कर लिया है.

एक रिसर्च के अनुसार, मई 2015 में भारत में फोन धारकों की संख्या 100 करोड़ के आंकड़े को पार कर चुकी है जिसमें 97.578 करोड़ लोग वायरलेस या मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं.

प्राइस, पॉलिसी और टेक्नोलॉजी ने समय के साथ देश में मोबाइल की स्थिति को पूरी तरह से बदल डाला. पहले कॉल दरें सस्ती हुईं, फिर इनकमिंग कॉल के लिए पैसा लगना बंद हो गया. आज की तारीख में तो पूरे देश में नंबर पोर्टिब्लिटी की सेवा भी शुरू कर दी गई है.

इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (आईएएमएआई) और कंसल्टेंसी कंपनी केपीएमजी की ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत में मोबाइल ग्राहकों की संख्या 15.9 करोड़ के लगभग है और 2017 तक यह संख्या दोगुनी होकर 30 करोड़ का आंकड़ा पार कर सकती है.

अनुमान यह भी लगाया जा रहा है कि भारत में इस साल के अंत तक मोबाइल फोन उपभोक्ताओं की संख्या एक अरब से अधिक हो जाएगी.

Photo: © Pixabay.