स्मार्टवॉच यूजर्स ऐहतियात बरतें!

Swarnkanta रविवार 3 जनवरी, 2016 को अपराह्न 054543 बजे

स्मार्टवॉच यूजर्स ऐहतियात बरतें!

आजकल वियरेबल तकनीक आम जिंदगी का हिस्सा बनती जा रही है. इसलिए विश्लेषक स्मार्टवॉच की सुरक्षा से जुड़े संभावित खतरों का पता लगा रहे हैं.

कोपनहेगन की आईटी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं को तो पता चला कि आपका स्मार्टवॉच आपकी सुरक्षा के लिए खतरा बन सकता है. शोधकर्ता टोनी बेलट्रामेल्ली और सबास्तियन राईसी ने एक conducted जांच की जिसमें कई सारी बड़ी बातें सामने आई हैं.

इस शोध में पता चला कि यूजर की कलाई पर बंधे स्मार्टवॉच की गति और हिलने-डुलने से कोई यूजर कीपैड पर क्या टाइप कर रहा है ये पता लगाया जा सकता है.

कई तरह की जानकारियों को खंगालने के बाद शोधकर्ताओं ने बताया कि "गहरा तंत्रिका नेटवर्क आसानी से होने वाली गति को भांपते हुए उसके अनुमान के आधार पर कीस्ट्रोक हमला करने में सक्षम होता है." यहां ये याद रखना जरूरी है कि शोधकर्ताओं ने ये शोध वॉच यानी घड़ी पर की है जिनपर उनका पूरा एक्सेस है. हालांकि जांच में सुरक्षा से जुड़े कई महत्वपूर्ण समस्याएं सामने आईं हैं."

उन्होंने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, "हमारे नतीजों से पता चलता है कि यदि किसी यूजर ने कलाई पर बांधने वाला कोई वियरेबल उपकरण पहन रखा है तो यूजर के समूचे तकनीकी इकोसिस्टम यानी पारिस्थितिकी तंत्र को खतरा हो सकता है."

वैसे ये खबर स्मार्टवॉच पहनने वालों के लिए उतनी भी बुरी नहीं है.

शोधकर्ता इस बात का पता नहीं लगा पाएं कि हैकर्स मोशन ट्रैकिंग डेटा को लगातार, या कुछ समय के लिए, कैसे खींच सकता है.

लेकिन भले स्मार्टवॉट पर इस तरह से गंभीर हैकिंग का कोई मौजूदा खतरा कम हो लेकिन टेक उद्योग में कई खिलाड़ी स्मार्टवॉच को उपयोग करने के दूसरे खतरों को मानने लगे हैं. उदाहरण के लिए, ब्रितानी परिवहन विभाग ने गड़बड़ ड्राइविंग के मामले में किसी भी दूसरे मोबाइल डिवाइस की ही तरह स्मार्टवॉच के साथ भी खास नए नियम लागू किए हैं.

Photo: © iStock. (आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)