माइक्रोसॉफ्ट की 'लास्ट माइल' सपोर्ट के लिए पहलकदमी

Swarnkanta बुधवार 30 दिसम्बर, 2015 को अपराह्न 024902 बजे

माइक्रोसॉफ्ट की 'लास्ट माइल' सपोर्ट के लिए पहलकदमी

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के सीईओ सत्या नडेला का कहना है कि ग्रामीण संपर्क यानी कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए माइक्रोसॉफ्ट भारतीय स्टार्टअप के साथ काम करेगा.

सत्या नडेला तेलंगाना सरकार की ओर से आयोजित टेक्नोलॉजी इनक्यूबेटर टी-हब,, में अपने संबोधन के दौरान कहा, "आप जो भी तकनीक उपयोग करते हैं, जैसे कि व्हाइट स्पेस टेक्नोलॉजी, ये महत्वपूर्ण है कि हमें ग्रामीण इलाकों में लास्ट माइल कनेक्टिविटी लानी होगी. हम इस क्षेत्र में उद्यमियों के साथ काम करना चाहते हैं. हमें मार्केटबिलिटी पर विचार करना चाहिए."

वे कहते हैं, "आपकी सफलता दुनिया के लिए प्रेरणा है और माइक्रोसॉफ्ट आपका भागीदार बनना चाहता है. आपके पास जो भी विचार हैं उन्हें कमजोर मत होने दीजिए और उन्हें साकार करने के लिए कड़ी मेहनत कीजिए. सफलता के तीन मूल मंत्र हैं, विचार, क्षमता और संस्कृति."

नडेला ने ये कहते हुए अपनी बात आगे बढ़ाई कि असफलता को भी स्वीकार करना होगा. उन्होंने कहा, " अपनी असफलताओं से सबख सीखें तो आप जरूर सफल होंगे. भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम भविष्य में दुनिया के आईटी सेक्टर पर छा जाएगा."

नडेला इन दिनों हैदराबाद में चार दिनों की व्यक्तिगत यात्रा पर हैं. लेकिन उन्होंने टी-हब के लिए समय निकाला. इंफोसिस सीईओ और एमडी विशाल सिक्का और एच-अधिकृत अरुबा नेटवर्क कीर्ति मेनकोटे के संस्थापक भी नडेला की यात्रा के दौरान उपस्थित रहें.

इससे पहले नडेला आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू से मिले और शिक्षा, ईसिटिजन सर्विस, और इलाके में कृषि से जुड़ी भागीदारी के लिए एक सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए. इस नई साझेदारी के लक्ष्य को हासिल करने के लिए, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया विशाखापत्तनम् में "सेंटर ऑफ एक्सिलेंस" की स्थापना करेगी. सहमति पत्र के अनुसार, माइक्रोसॉफ्ट उन क्षेत्रों में, जिन पर सहमति बनी है, मुद्दों का पता लगाने या उनकी भविष्यवाणी करने के लिए माइक्रस़ॉफ्ट एजुर मशीन लर्निंग और एडवांस्ड विजुवलाइजेशन को लागू करेगा.

Photo: © iStock.(आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)