दिल्ली के दो युवकों ने अमेजन को लगाया लाखों का चूना

Swarnkanta - 11 अक्टूबर, 2017 - अपराह्न 05:54 IST बजे

दिल्ली के दो युवकों ने अमेजन को लगाया लाखों का चूना

ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेजन इंडिया की शिकायत के बाद दिल्ली में दो युवकों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कंपनी से 166 फोन का रिफंड लिया.

(CCM) — समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पुलिस ने बताया है कि शिवम चोपड़ा और सचिन जैन अमेजन पर मंहगे फोन ऑर्डर करते थे. और फिर कंपनी से ये कहकर रिफंड लेते थे कि उन्हें फोन का खाली डिब्बा मिला है. इस तरह उन्होंने कंपनी से करीब 50 लाख रुपए उगाहे.

दिल्ली पुलिस के साइबर सेल के सब इंस्पेक्टर विकास ने बताया, "शिवम अमेजन से फ़ोन खरीदता था और डिलीवरी ना होने का बहाना लगाकर शॉपिंग पोर्टल से पैसे वापस मांग लेता था. सचिन पर आरोप है कि उसने शिवम को इस जालसाज़ी के लिए 150 प्री-एक्टिवेटेड सिम मुहैया कराए. ऐसे उन्होंने 166 फ़ोन खरीदे. फिर उन्हें बाद में बेच दिया."



21 साल के शिवम और उनका दोस्त 38 साल के सचिन जैन को अमेज़न को धोखा देने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है. सचिन अमेज़न पर ऑर्डर करने के लिए शिवम को अलग अलग सिम उपलब्ध करवाते थे.

पुलिस के मुताबिक शिवम अमेज़न को चूना लगाकर हासिल किए गए इन मोबाइलों को दूसरे ई-कॉमर्स साइटों और दिल्ली के करोल बाग स्थित गफ्फार मार्केट में बेच दिया करता था.

जून में एक व्यक्ति ने अमेजन सेलर सर्विस प्राइवेट लिमिटेड की ओर से शिकायत की कि अप्रैल और मई के बीच 166 मोबाइल ऑर्डर किए गए. इनका पेमेंट गिफ्ट कार्ड के जरिए किया गया लेकिन इन सबके डिब्बे खाली निकलने के कारण कंपनी को इसके लिए रिफंड करना पड़ा.

पुलिस बताती है कि सारी रकम गिफ्ट कार्ड के जरिए रिफंड की गई.

कंपनी ने जब खोजबीन की तो पाया कि आरोपी ने इन ऑर्डर्स के लिए 141 फोन नंबर और 48 कस्टमर अकाउंट का इस्तेमाल किया. कंपनी ने इनमें से हर ऑर्डर का रिफंड किया.

पुलिस का कहना है कि जब डिलीवरी के लिए फोन आता तो शिवम जहां रहता था उसका पता नहीं देकर कोई गलत जगह बताता था. वो उस डिलीवरी पर्सन को किसी दूकान या कोई दूसरी जगह बुलाता. डिलीवरी लेने के बाद वह अमेज़न के कस्टमर केयर को फोन करता कि डिब्बा खाली है. तब रिफंड की प्रक्रिया शुरू हो जाती.

मामले की जांच करने के बाद पुलिस ने अगस्त में मामला दर्ज किया.

अमेज़न को कॉल करने के लिए इस्तेमाल किए गए नंबर, स्थानीय लोगों से पूछताछ और अमेजन डिलीवरी पर्सन की मदद से शिवम की पहचान की गई. वह गणेश पुरी के त्री नगर में रहता था. उसे 6 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया गया.

पुलिस उपायुक्त (उत्तर पश्चिम) मिलिंद डुम्बेरे ने जानकारी दी है कि पूछताछ के दौरान शिवम ने बताया कि ऑर्डर देने के लिए उसने सचिन से करीब 150 प्री-एक्टिवेट किए गए सिम खरीदे. सचिन बगल में एक दूकान चलाता था.

शिवम के घर की तलाशी के दौरान पुलिस को 19 मोबाइल फोन, 12 लाख रुपए नकद, 40 बैंक पासबुक और चेक मिले हैं.

अमेज़न इंडिया के प्रवक्ता ने बयान दिया है कि, "हम दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे. जांच में उनकी सभी कोशिशों के लिए हम दिल्ली पुलिस का शुक्रिया करते हैं."

Photo: © dennizn - Shutterstock.com