नया मालवेयर उड़ा रहा है आपके मोबाइल से पैसे

Swarnkanta - 11 सितम्बर, 2017 - पूर्वाह्न 09:14 IST बजे

नया मालवेयर उड़ा रहा है आपके मोबाइल से पैसे

एक नया मालवेयर लोगों के मोबाइल फोन से पैसे चुरा रहा है. भारत के करीब 40 फीसदी लोग इसका शिकार हुए हैं.

(CCM) — कैफेकॉपी ट्रोजन नाम का मालवेयर लोगों के मोबाइल फोन से पैसे उड़ा रहा है. साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्परस्काई ने अपनी रिपोर्ट में ये जानकारी दी है. रिपोर्ट के मुताबिक एक महीने के अंदर इसने 47 देशों में 4800 से अधिक यूजर्स को निशाना बनाया. इनमें भारत, रूस, तुर्की और मैक्सिको भी शामिल हैं.



कैस्परस्काई के लैब विशेषज्ञों ने पता लगाया है कि यह मोबाइल मालवेयर वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकॉल (वैप) यानी बिलिंग भुगतान प्रणाली को निशाना बना रहा है. लोगों को पता नहीं चलता और उनके फोन के खाते से पैसे गायब हो रहे हैं. कैफेकॉपी ट्रोजन मालवेयर बैटरीमास्टर जैसे उपयोगी ऐप में छिपा होता है और एकदम सामान्य तरीके से काम करता है. ट्रोजन डिवाइस में गोपनीय रूप से डाटा चुराने वाला कोड लोड कर देता है.

रिपोर्ट के अनुसार ऐप के एक बार सक्रिय हो जाने पर कैफेकॉपी मालवेयर वैप बिलिंग के साथ वेब पेज पर क्लिक करता है. वैप मोबाइल भुगतान का एक तरीका है जो कि उपभोक्ता के मोबाइल फोन बिल से सीधे चार्ज काट लेता है. इसके बाद मालवेयर चुपके से फोन पर कई सेवाओं को सब्सक्राइब कर लेता है. इस प्रक्रिया में रजिस्ट्रेशन के लिए डेबिट या क्रेडिट या फिर यूजरनेम या पासवर्ड की जरूरत नहीं पड़ती है.

कैस्परस्काई के अनुसार मालवेयर कैप्चा सिस्टम से बचकर निकलने की तकनीक इस्तेमाल करता है. इससे मोबाइल यूजर को पता नहीं चलता. कैप्चा सिस्टम में वेबसाइट कुछ अक्षर या नंबर दिखाता है जिसे उपभोक्ता को खुद भरना होता है.

रिपोर्ट के मुताबिक कैस्परस्काई लैब प्रोडक्ट ने 37.5 फीसदी हमलों का पता लगाया और इन्हें ब्लॉक किया.

कैस्परस्काई लैब के वरिष्ठ मालवेयर विश्लेषक, रोमन उनचेक का कहना है कि कैफेकॉपी उन देशों को निशाना बना रहा है जहां वैप बिलिंग प्रणाली ज्यादा इस्तेमाल में लाई जा रही है. यह मालवेयर टैक्स्ट संदेशों के जरिए भी एक मोबाइल डिवाइस से दूसरे मोबाइल नंबरों पर जा रहा है.

Photo: © iStock