कंप्यूटर का परिचय और पूर्ण ज्ञान

जुलाई 2017

पिछले कुछ दशकों में कंप्यूटर हमारे जीवन का अटूट हिस्सा बन गया है. अब बस हमें अपनी उंगली से एक क्लिक भर करने की देर है और दुनिया भर की खबरें और जानकारियां हमारे सामने हैं. चाहे हमारी जानकारियों के आधार को व्यापक बनाने, अपने अपने क्षेत्र में सफल होने या एक दूसरे से संपर्क रखने की बात हो, कंप्यूटर ने हर काम आसान कर दिया है. कंप्यूटर का आधार वैसे तो एक जटिल प्रणाली है लेकिन तकनीक के हर जगह सुलभ होने के कारण इसकी जटिलता को नजरअंदाज करना आसान है.

यह लेख नए यूजर के लिए कंप्यूटर का परिचय देने वाला गाइड बन सकता है. यहां हम आपका परिचय कंप्यूटर के मुख्य घटकों, कुछ बुनियादी शब्दावलियों और नए प्रोद्योगिकी से करवाएंगे.


कंप्यूटर एक परिचय

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसे प्रोग्राम किया जा सकता है और जो नंबर्स, टेक्स्ट, ग्राफिक्स और साउंड को हाई स्पीड से प्रोसेस करती है. सभी कंप्यूटर में एक सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट यानी सीपीयू (CPU), मेमोरी और इनपुट तथा आउटपुट डिवाइस होता है. ये सभी यूजर्स को ऑपरेशन एक्जेक्यूट करने और स्टोर करने में मदद करते हैं.

कंप्यूटर के प्रमुख अंग

कीबोर्ड

कीबोर्ड कंप्यूटर में डाटा डालता यानी एंटर करता है. कंप्यूटर कीबोर्ड के मानक लेआउट को QWERTY कहते हैं. इस कीबोर्ड का नाम इसकी पहली कतार में मौजूद पहले छह अक्षरों के नाम पर पड़ा है. हालांकि आपके काम के आधार पर एक दूसरा कंप्यूटर कीबोर्ड भी काफी चलन में है. इसे AZERTY कीबोर्ड (सबसे अधिक फ्रांस में पाया जाता है), या अल्फाबेटिक यानी वर्णमाला कीबोर्ड कहते हैं.

कंप्यूटर कीबोर्ड पर सामान्यतया जो कीज पाए जाते हैं उन्हें तीन मुख्य कैटेगरी में रखा जा सकता है: अल्फान्यूमेरिक कीज, जिसमें कीबोर्ड पर लेटर्स और नंबर्स होते हैं; पंक्चुएशन कीज, जिसमें कॉमा, पीरियड, सेमीकॉलन और ऐक्सेंट मार्क्स शामिल होते हैं; और विशेष कीज जिसमें शिफ्ट और फंक्शन कीज, कंट्रोल कीज, कैप्स लॉक और अन्य कीज होते हैं.


माउस

कंप्यूटर माउस (या लैपटॉप यूजर्स के लिए ट्रैकपैड) का प्रयोग कंप्यटर पर की तरह के एक्शन या कार्य के लिए होता है. यूजर सरफेस या सतह पर कंप्यूटर माउस को जिस तरीके से चलाता है, करसर नाम का एक तीर कंप्यूटर के स्क्रीन पर उसी तरह से चलता हुआ दिखाई देता है.

अधिकांश कंप्यूटर माउस में दो बटन होते हैं: लेफ्ट क्लिक बटन, जिस पर हम प्रायः अपनी उंगलियां रखते और उसे दबाते हैं और राइट क्लिक बटन जिसके लिए हम अपनी बीच वाली उंगली का इस्तेमाल करते हैं. लेफ्ट-क्लिक का प्रयोग आमतौर पर बुनियादी कमांड जैसे कि ऐप्लिकेशंस को ओपन या क्लोज करना आदि के लिए किया जाता है. जबकि राइट-क्लिक बटन का प्रयोग प्रायः हम अधिक खास कमांड के लिए करते हैं, जैसे कि मौजूदा पेज या उसपर मौजूद टेक्स्ट को कॉपी, पेस्ट या प्रिंट करना.


कंप्यूटर स्क्रीन

इसमें कोई शक नहीं कि आप कंप्यूटर स्क्रीन से परिचित होंगे. कंप्यूटर स्क्रीन (जिसे आमतौर पर मॉनिटर कहा जाता है) टीवी स्क्रीन से मिलता जुलता होता है. यह कंप्यूटर का विजुअल अवयव है जिसपर सारी गतिविधियां दिखाई देती हैं. स्क्रीन दो प्रकार के होते हैं: एक कैथोड स्क्रीन (थोड़ा पुराना मॉडल), और फ्लैट स्क्रीन. यहां कैथोड स्क्रीन का एक उदाहरण हम दे रहे हैं:


सेंट्रल यूनिट

सेंट्रल यूनिट में सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (कंप्यूटर का दिमाग), मदरबोर्ड (मुख्य सर्किट) और पावर सप्लाई सहित कंप्यूटर के अधिकांश अन्य अवयव स्थित होते हैं.

कंप्यूटर के सभी बाहर हिस्से, जिसमें कीबोर्ड, माउस, स्क्रीन और स्पीकर शामिल हैं, सेंट्रल यूनिट से जुड़े होते हैं जिससे फंक्शनल सिस्टम तैयार होताहै.


कंप्यूटर की बुनियादी शब्दावली

कंप्यूटर की बुनियादी शब्दावली के लिए परिभाषाएं.

क्लिक: इसका मतलब आपके माउस पर एक बटन को दबाना होता है. इसके अलावा ये डबल क्लिक में भी इस्तेमाल होता है जिसका मतलब फाइल या फोल्डर को ओपन करने के लिए बटन को जल्दी जल्दी दो बार दबाना होता है.

डेस्कटॉप: इसका मतलब वो है जो कंप्यूटर स्टार्ट हो जाने के बाद स्क्रीन पर दिखाई देता है. डेस्कटॉप पर बैकग्राउंड ईमेज पर आमतौर पर टास्क बार या डैसबोर्ड और आईकन मौजूद होते हैं.

डॉक: डॉक स्क्रीन के एक कोने में स्थित फ्लैट बार होता है. आपको यहां आईकन, मेनू और ओपन विंडो की लिस्ट मिल जाएगी. डॉक्स को आमतौर पर टास्क बार के रूप में पहचाना जाता है.

ड्राइव: डाटा का जब प्रयोग नहीं होता तो वे ड्राइव में स्टोर रहते हैं. आपके द्वारा स्टोर किए जा रहे डाटा के प्रकार और उसे स्टोर करने के लिए जरूरी मेमोरी जिस फाइल को आप स्टोर कर रहे हैं उसके प्रकार के अनुसार ड्राइव के विभिन्न रूप होते हैं.

आईकन: यह एक छोटा ईमेज होती है जो किसी ऐप्लिकेशन या किसी एक्शन को दर्शाता है.

मेनू: एक ऐसा बटन है जिसे जब क्लिक करते हैं, तो दूसरे कई बटन की सूची दिखाई देती है.

प्रोग्राम/सॉफ्टवेयर: कंप्यूटर प्रोग्राम और सॉफ्टेवेयर ऐसे प्लेटफार्म हैं जिनका इस्तेमाल यूजर अपने खास उद्देश्य को पाने के लिए अलग अलग गतिविधियों को कर सकता है.

टाइप: इसका मतलब बस आपके कीबोर्ड को प्रेस करना या दबाना होता है.

विंडो: यह एक चौकोर आकार का विजुअल है जो किसी ऐप्लिकेशन या सॉफ्टवेयर के अनुसार बना होता है. विंडो का मेनू ऑप्शंस आमतौर पर विंडो के सबसे ऊपरी हिस्से में कोने पर पाया जाता है.

मेनू ऑप्शन में आमतौर पर आपके मौजूदा विंडो को बंद करने, छोटा करने, कंट्रोल करने या बड़ा करने का विकल्प मौजूद होता है.

इंटरनेट

कंप्यूटर का परिचय दिया जा रहा हो और इंटरनेट की बात न हो तो सब अधूरा है. इंटरनेट एक जटिल प्रणाली है, लेकिन कंप्यूटर के लिए ये बुनियादी जरूरत है. इसे हम कई कंप्यूटर के बीच जानकारियों के आदान प्रदान में मदद करने वाले एक सिस्टम के रूप में परिभाषित कर सकते हैं.

इंटरनेट का मूल नियम डॉक्यूमेंट के बीच नेविगेट करने के लिए हाइपरलिंक के इस्तेमाल पर निर्भर करता है. इंटरनेट की शुक्रिया कि इसकी वजह से हम अपनी जरूरत और पसंद की वेबसाइट को एक्सेस और ब्राउज कर सकते हैं.

Image: © iStock

यह भी पढ़ें

ओरिजिनल आर्टिकल ने पब्लिश किया. Swarnkanta ने अनुवाद किया. ताजा अपडेट: 29 जून, 2017 को अपराह्न 06:26 बजे RanuP ने किया.
CCM (in.ccm.net) पर उपलब्ध यह डॉक्युमेंट "कंप्यूटर का परिचय और पूर्ण ज्ञान" क्रिएटिव कॉमन लाइसेंस के तहत उपलब्ध कराया गया है. जैसा कि इस नोट में साफ जाहिर है, आप इस पन्ने को लाइसेंस के तहत दी गई शर्तों के मुताबिक संशोधित और कॉपी कर सकते हैं.